लोजपा में दो फाड़, चाचा-भतीजे की लड़ाई पहुंची चुनाव आयोग, आज फिर होगा आमना-सामना

बिहार में तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम में दिवंगत राम विलास पासवान की पार्टी लोजपा दो फाड़ हो गई है. राम विलास पासवान के भाई पशुपति पारस के अपने ही भतीजे चिराग़ पासवान को एक के बाद एक बड़ा झटका देते जा रहे हैं. बता दें कि पहले उन्होंने अपने नेतृत्व में लोजपा के 6 में से 5 सांसदों को अपने साथ कर लिया. इतना ही नहीं इस सब के बाद चिराग़ पासवान को LJP के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया. जिसके बाद चिराग पासवान ने इस पर एक्शन लेते हुए पांचो सांसदों को पार्टी से निकाल दिया और इसके बाद से ही अब सियासी घमासान तेज़ हो गया है.

वही अब ये सियासी लड़ाई चुनाव आयोग तक जा पहुंची है. जानकारी के लिए बता दें कि LJP पर अपनी-अपनी दावेदारी पेश करने के लिए चिराग और पशुपति आज चुनाव आयोग के अफसरों से मिलेंगे. इतना ही नहीं चिराग पासवान का गुट आज आयोग से मिलने के बाद लोकसभा के स्पीकर ओम बिरला से भी मुलाकात करेगा और अपनी बात उनके सामने रखेगा. इसके अलावा बता दें कि चिराग के गुट का कहना है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बैठक के दिन आपको हमारी संख्या बल दिख जायेगा.

उसके बाद 20 जून को प्रेसवार्ता भी होगी, एलजेपी के अध्यक्ष अभी भी चिराग पासवान हैं, यह बात हमने स्पीकर को भी लिख कर दे दी है, आज शाम 5 बजे हम चुनाव आयोग से भी मिलेंगे. वही दूसरी तरफ बता दें कि गुरुवार को पशुपति पारस को पार्टी का नया अध्यक्ष चुन लिया गया है. जिसके साथ ही विवाद और बढ़ गया है और इसी वजह से अब ये लड़ाई चुनाव आयोग तक जा पहुंची है. जहाँ पर दोनों ही गुट अब पार्टी पर अपनी अपनी दावेदारी पेश करेंगे.