Sunday Special : क्या आप जानते हैं Condom की कैसे हुई शुरुआत, 15 हजार साल पहले जानवर की इस चीज से बनाया गया था पहला कंडोम

कंडोम का इतिहास

कंडोम का इतिहास

नई दिल्ली। वैसे तो आजकल कंडोम (Condom) का चलन बहुत आम सा हो गया है। मगर आज भी इस शब्द को बोलने में और सुनने में कई लोग झिझकते हैं। कंडोम आज के समय में एक बहुत ही जरूरी चीज है। वैसे तो कंडोम का ज्यादातर इस्तेमाल अनचाहे गर्भ (unwanted pregnancy) से बचने और एचआईवी एड्स (HIV Aids) जैसी जानलेवा बीमारी से बचने के लिए किया जाता है। जैसे जैसे दुनिया में तकनीक आगे बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे कंडोम का इस्तेमाल भी आम होता जा रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कंडोम की शुरुआत कैसे हुई थी? क्या आपको मालूम है कि सबसे पहला कंडोम कब और कहां बनाया गया था? इसके बारे में कम ही लोग जानते हैं कि कंडोम का क्या इतिहास रहा है। आज हम आपको कंडोम की शुरुआत से लेकर इसके पूरे इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं। तो आइए जानते हैं कि कंडोम की शुरुआत कब और कैसे हुई।


लैटिन भाषा से निकला कंडोम शब्द

एक रिपोर्ट के मुताबिक यूरोप (Europe) में कंडोम का इतिहास मध्य युग में शुरू हुआ। उस समय Syphilis बीमारी एक महामारी के रूप में उभर कर सामने आई थी। साल 1964 में इटली के एक डॉक्टर गैब्रिएल फैलोपियो (Gabriele Falloppio) ने लिखा कि एक लिनन बैग को नमक या अन्य जड़ी बूटियों के घोल में डुबाकर इस्तेमाल करें तो Syphilis से सुरक्षा मिल सकती है। समय आगे बढ़ा और 18वीं शताब्दी में लिनन और रेशम से बने कंडोम का इस्तेमाल किया जाने लगा। इसके अलावा कई लोग तो बकरी और मेमनों की आंत से बने कंडोम का भी इस्तेमाल करते थे। रिपोर्ट में बताया गया है कि कंडोम शब्द संभवतः लैटिन भाषा के Condus से लिया गया है, जिसका अर्थ है पात्र यानि किसी चीज को रखने में इस्तेमाल की जाने वाली थैली या कुछ और भी।

1645 में ब्रिटिश सेना के डॉक्टर ने बनाया था पहला कंडोम

Condom के नाम को लेकर कुछ जानकारों का कहना है कि साल 1645 में ब्रिटिश सेना (British Army) के डॉक्टर कर्नल क्वांडम (Colonel Quondam) ने जानवर की आंत से दुनिया का पहला कंडोम (Worlds first Condom) बनाया था। यही वजह है कि डॉक्टर के नाम पर इसे कंडोम नाम मिल गया। जानवर के आंत से बनने की वजह से उस समय कंडोम की कीमत काफी ज्यादा हुआ करती थी। इसके बाद साल 1839 में चार्ल्स गुडइयर ने प्राकृतिक रबर से कंडोम बनाने का एक तरीका ढूंढ निकाला। रबर से बने कंडोम, जानवरों के अंगों से बने कंडोम की तुलना में सुविधाजनक थे। ये लचीला तो था ही इसके साथ टिकाऊ भी था, जो आसानी से नहीं फटता था। उस समय मर्दों को सलाह दी जाती थी कि वे प्राकृतिक रबर से बने कंडोम को धोकर तब तक इस्तेमाल कर सकते हैं जबतक वह फट न जाए।


15 हजार साल पहले आदि मानव भी करते थे कंडोम का इस्तेमाल

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक फ्रांस (France) की किसी गुफा में हजारों साल पुरानी पेंटिंग (Painting) मिली थी। वेबसाइट के मुताबिक ये पेंटिंग 12 हजार से 15 हजार साल पुरानी थी। लेकिन हैरानी की बात ये है कि इतनी पुरानी पेंटिंग में कंडोम जैसे चित्र बने हुए थे। इस पर ऐसे कयास भी लगाए जाते हैं कि कंडोम का इस्तेमाल आदि मानव भी किया करते थे। हालांकि, इस बारे में अभी तक कोई खास जानकारी नहीं मिल पाई है कि आदि मानव कंडोम का इस्तेमाल किस मकसद से करते थे। साफ शब्दों में कहें तो आदि मानव Unwanted Pregnancy से बचने के लिए कंडोम का इस्तेमाल करते थे या फिर इसकी वजह कुछ और थी, इसके बारे में नहीं मालूम। इतना ही नहीं, आदि मानव द्वारा कंडोम के इस्तेमाल को लेकर भी कोई पुख्ता जानकारी उपलब्ध नहीं है।

शौचालय में पाए गए थे सबसे पुराने कंडोम

रिपोर्ट के मुताबिक कंडोम का इतिहास बिल्कुल स्पष्ट नहीं है, इसमें कई तरह के मतभेद हैं। लेकिन, इस बात में कोई दो राय नहीं है कि 17वीं शताब्दी में कंडोम का इस्तेमाल किया जाता था। United Kingdom के डुडले कैसल (Dudley Castle) में खुदाई के दौरान कुछ कंडोम पाए गए थे। ये कंडोम जानवरों और मछलियों की आंत से बनाए गए थे, जो डुडले कैसल के मध्यकालीन शौचालय में मिले थे। रिपोर्ट के मुताबिक शौचालय में मिले ये कंडोम 1646 के आसपास इस्तेमाल किए गए थे। रिपोर्ट की मानें तो ये हाथ लगने वाले सबसे पुराने कंडोम थे, जिन्हें शौचालय में पाया गया था।