मिशन 2022: ब्राह्मण सम्मेलन का आगाज कर बसपा ने खेला बड़ा सियासी दांव

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में कुछ ही महीनो का समय बचा है. इसके लिए सभी सियासी दल अपनी अपनी तैयारियों में लगे हुए है. जहाँ एक तरफ बीजेपी एक बार फिर से UP को भगवा से रंगने के लिए जमीनी स्तर पर अपनी रणनीति बना रही है. वही एक बार फिर से सपा और बसपा ने भी UP में फतह हासिल करने के लिए अपनी कमर कस ली है.

इसके अलावा एक बार फिर से बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनावी बिसात बिछाना शुरू कर दिया है. जानकारी के लिए बता दें कि बसपा आज अयोध्या से ब्राह्मण सम्मेलन की शुरुआत कर रही है. जिसकी अगुवाई बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा कर रहे है. बसपा का मकसद ब्राह्मण समुदाय को ये बताना है कि बसपा ब्राह्मण समुदाय की सबसे बड़ी हितैषी पार्टी है.

बता दें कि सम्मेलन में सतीश चंद्र मिश्र के अलावा पूर्व मंत्री नकुल दुबे और परेश मिश्र सहित कई ब्राह्मण नेता शामिल होंगे. साथ ही साथ ये ब्राह्मण सम्मेलन प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर 14 अगस्त तक जारी रहेंगे. इसके अलावा अगला सम्मेलन प्रयागराज में होगा. दरअसल मालूम को कि बसपा एक बार फिर से साल 2007 की रणनीति पर सत्ता में वापस आना चाहती है जिसके लिए बसपा ने ब्राह्मण समुदाय को अभी से ही लुभाना शुरू कर दिया है. जाहिर है कि इस बार UP का चुनाव सभी का केंद्र बिंदु बना हुआ है और इसी कारण से सभी की निगाहे UP के आगामी चुनावों पर टिकी हुई है. हालाँकि UP की जनता किसके हाथों में सत्ता की जिम्मेदारी देती है ये तो चुनावों के बाद नतीजे आने पर ही पता चलेगा लेकिन चुनावों से पहले सभी सियासी दलों के बीच जंग काफी दिलचस्प होने वाली है.