योगी आदित्यनाथ का बड़ा फैसला, महाराष्ट्र को भी पीछे छोड़ने की तैयारी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विशेष प्रितिभाओं के धनी व्यक्ति हैं. इनकी कार्यशैली की रणनीति प्रक्रिया इतनी ठोस है कि ये बड़े से बड़े कार्यों को बहुत ही आसानी से हल कर देते हैं. जब से आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने हैं. तब से उत्तर प्रदेश बहुत ही तेजी से विकास की ओर बढ़ रहा है. उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में अपना एक अलग पहचान बना रहा है. इस बात की पुष्टि हम एक उदाहरण के द्वारा समझ सकते हैं. अगर हम उत्तर प्रदेश का इतिहास उठाकर देखें तो आज तक यहाँ पर कोई भी निवेश के लिए नहीं आया और न ही उत्तर प्रदेश की पूर्व सरकार भी निवेश में अपना कोई रुझान दिखया है. लेकिन अब बीते पांच वर्षों में काफी कुछ बदल गया है. अब यहाँ निवेश को लेकर सरकारें भी अपना रुझान दिखा रहीं हैं. अगर इसी तरह से उत्तर प्रदेश तरक्की की ओर आगे बढ़ता गया तो वो दिन दूर नहीं जब उत्तर प्रदेश के आगे महाराष्ट्र भी पीछे छूट जायेगा.

आपको बता दें कि अभी हाल ही में केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश में डिफेन्स निर्माण इकाईयों का विकास करने की बात की थी. केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश राज्य सरकार से इसके संदर्भ में कार्य शुरू करने की भी बात कही थी. बता दें कि इस देश की समस्या ये है कि बात होने के काफी समय बाद कार्यों को शुरू किया जाता है. लेकिन यहाँ उत्तर प्रदेश का बाग डोर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संभाल रहें हैं इसलिए यहाँ निर्माण कार्य को लेकर विशेष ध्यान दिया जा रहा है और जल्द से जल्द कार्यों को शुरू किया जा रहा है. बता दें कि योगी सरकार निवेश को लेकर भी काफी उत्साहित नजर आ रही हैं. इसलिए ही तुरंत कोरिडोर के लिए कंपनियों को 55.4 हेक्टेयर जमीन दे दी गई है.

मुख्यमंत्री द्वारा ये जमीने कोरिडोर के लिए दी गयी हैं. इस जमीन का स्थान अलीगढ़ के नजदीक में है. आपको बता दें कि इस दी गई जमीन में कुल 19 कंपनियां हैं जो काम करने वाली हैं. सबसे बड़ी खुशी की बात ये है कि यहां अब हजारो लाखो लोगों को रोजगार मिलने वाला है. इसी के साथ ही उत्तर प्रदेश की जीडीपी भी बहुत अधिक तीव्र गति से बढ़ेगी. इस बात की पुष्टि हम इस तरह से करते हैं. जैसे की हम सभी लोग जानते हैं कि अगर कहीं भी डिफेंस से जुड़ी हुई कंपनियां बस जाती हैं तो वहां पैसे की कोई कमी नहीं होती है. अगर उत्तर प्रदेश में भी ऐसा हो जाता है तो यहाँ भी पैसा पानी की तरह बहेगा.