भारत में पिछले दो महीनों में बढ़ी सोने की मांग, जानें किन वजहों से बढ़ रहा लोगों का रुझान

सोने की बढ़ी मांगसोने की बढ़ी मांग

मुंबई। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (World Gold Council) ने एक रिपोर्ट में कहा कि इस साल अप्रैल-जून तिमाही के दौरान भारत में सोने की मांग (gold demand in india) 19.2 प्रतिशत बढ़कर 76.1 टन हो गई, जिसका मुख्य कारण कम आधार प्रभाव था। गौरतलब है कि पिछले साल देशव्यापी लॉकडाउन (Nationwide Lockdown) के चलते आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई थीं।

WGC की रिपोर्ट '2021 की दूसरी तिमाही में सोने की मांग के रुझान' के अनुसार कैलेंडर वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में सोने की कुल मांग 63.8 टन थी। रिपोर्ट में कहा गया कि कीमत के लिहाज से देश में सोने की मांग समीक्षाधीन अवधि में 23 प्रतिशत बढ़कर 32,810 करोड़ रुपये हो गई, जो 2020 की इसी अवधि में 26,600 करोड़ रुपये थी। रिपोर्ट के अनुसार, घातक कोरोना वायरस की दूसरी लहर के प्रकोप के चलते पिछली तिमाही के मुकाबले सोने की मांग में 46 प्रतिशत की गिरावट आई है। इसी तरह इस साल 2021 की पहली छमाही में कुल मांग 157.6 टन थी, जो 2019 की पहली छमाही के मुकाबले 46 फीसदी थी।

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के भारत में क्षेत्रीय सीईओ सोमसुंदरम पी आर (Somsundaram P.R.) ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के चलते 2021 की दूसरी तिमाही में क्षेत्रीय आधार पर लॉकडाउन लगाया गया, जबकि पिछले साल पूरे देश में Strict Lockdown लागू किया गया था। ये तिमाही इसलिए भी बेहतर है क्योंकि व्यवसाय अधिक तैयार थे। रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल-जून तिमाही में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सोने की मांग में पिछले वर्ष 2020 की समान अवधि के मुकाले एक प्रतिशत की गिरावट हुई और यह 955.1 टन रही।