उत्तराखंड में बड़ा सियासी उलटफेर : फिर बदलेगा मुख्यमंत्री का चेहरा, तीरथ सिंह रावत ने की इस्तीफे की पेशकश

उत्तराखंड को एक बार फिर नया मुख्यमंत्री मिलने वाला है. वर्तमान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर इस्तीफे की पेशकश की है. रिपोर्ट्स के अनुसार दो दिनों में नये सीएम का चुनाव कर लिया जाएगा. महज चार महीने पहले ही त्रिवेंद्र सिंह रावत की जगह पर तीरथ सिंह रावत को उत्तराखंड का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था. रावत 10 मार्च को मुख्यमंत्री बने थे. पौड़ी से सांसद रावत को अपने पद पर बने रहने के लिए 10 सितंबर तक विधानसभा चुनाव जीतना था. क्योंकि आर्टिकल 164-ए के हिसाब से उन्हें मुख्यमंत्री बनने के बाद छ महीने में विधानसभा का सदस्य बनना था. लेकिन आर्टिकल 151 कहता है कि अगर विधानसभा चुनाव में एक वर्ष से कम का समय बचता है तो वहा पर उप-चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं.

राज्य में इस वक़्त हल्द्वानी और गंगोत्री विधानसभा सीट खाली है. अटकलें लग रही थी कि रावत गंगोत्री सीट से उपचुनाव लड़ सकते हैं. लेकिन अहनक ही दो दिनों पहले वो दिल्ली रवाना हो गए. दिल्ली में दो दिनों में रावत ने दो बार पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की. रावत के इस्तीफे के बाद अब भाजपा के लिए सबसे बड़ी मुश्किल नया सीएम चुनना होगा क्योंकि राज्य चुनाव के मुहाने प् खड़ा है और उसी नए सीएम के नेतृत्व में पार्टी को चुनाव में उतरना होगा. ऐसे में नया सीएम कोई ऐसा चेहरा होगा जो चुनाव की कमान संभाल सके और पार्टी को जीत भी दिला सके.

नए मुख्यमंत्री की रेस में सबसे पहला नाम तीरथ कैबिनेट में उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत का है. श्रीनगर सीट से विधायक धन सिंह आरएसएस कैडर से आते हैं और राज्य में पार्टी के मजबूत नेता माने जाते हैं. संगठन पर भी उनकी अच्छी पकड़ है. धन सिंह के अलावा तीरथ सरकार में कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत और हरक सिंह रावत के नाम की भी चर्चा है.