डॉक्टर हर्षवर्धन ने दिया इस्तीफा ? आ रही है बड़ी खबर

मोदी सरकार ने मंत्रिमंडल विस्तार की तैयारी कर ली है. इसके राजनीतिक समीकरण के लिहाज से जातीय और क्षेत्रीय संतुलन तो होगा ही, साथ ही युवा, अनुभवी, शिक्षित और ब्यूरोक्रेट व टेक्नोक्रेट भी पसंद में शामिल होंगे. बता दें कि आज दिन बुधवार को शाम छह बजे नए मंत्री शपथ लेंगे. इसी के साथ ही इस समय की सबसे बड़ी खबर ये आ रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट विस्तार से पहले कई बड़े मंत्रियों की छुट्टी कर दी है.

इसके सबसे बड़ी बात ये है कि कोरोना वायरस की महामारी की दूसरी लहर में फैली अव्यवस्था के कारण से स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन पर भी गाज गिरी है. बता दें कि इसी संदर्भ में डॉक्टर हर्षवर्धन से इस्तीफा ले लिया गया है. आईये अब हम जानते हैं कि डॉक्टर हर्षवर्धन के साथ – साथ और कौन – कौन से मंत्रियों से इस्तिफा लिया गया है. बता दें कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, श्रम व रोजगार मंत्री संतोष गंगवार, महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री देबोश्री चौधरी, रसायन एवं उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़, केंद्रीय राज्य मंत्री संजय धोतरे, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, राज्यमंत्री प्रताप सारंगी, राज्य मंत्री रतनलाल कटारिया और राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो से भी इस्तीफा ले लिया गया है.

इसी के साथ ही खबरों के अनुसार पता चला है कि कैबिनेट विस्तार का खाका तैयार हो गया है. बता दें कि उत्तर प्रदेश आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ओबीसी प्रतिनिधित्व बढ़ेगा. बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार में दो दर्जन से ज्यादा मंत्री ओबीसी के होंगे. युवाओं का भी प्रतिनिधित्व बढ़ेगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसे लोगों को आगे लाना चाहते हैं जो विकास कार्यों को तेज कर सकें. यह तय है कि मंत्रिमंडल में मुख्यतः शिक्षित लोगों को ही स्थान मिलेगा.