भारत के सामने एक नयी चुनौती बॉर्डर पर आकर खड़ी हो गयी है, कैसे निपटेंगे मोदी

अभी फ़िलहाल का समय भारत के लिये काफी अधिक चिंता से भरा हुआ है क्योंकि देश के अन्दर तो दिक्कते आ ही रही है और ये हम लोगो ने देखा है. पहले करोना, फिर लॉकडाउन और अब आर्थिक दिक्कते भी पीछा छोड़ने का नाम नही ले रही है. ऐसे में अन्दर की समास्याएं तो खत्म नही हो रही है और बॉर्डर पर एक और बड़ी दिक्कत आकर के ऊपर से खड़ी हो गयी है, जिसके लिए भारत को सेना को और यहाँ की सरकार को एक बड़ी और ठोस रणनीति बनाने की जरूरत महसूस होने लग गयी है.

पाक ने अपना ली है ड्रोन रणनीति, भारतीय सीमा में प्रवेश के लिए करता है इस्तेमाल
पाक ने अब भारत में घुसने और भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए अपनाया जाने वाला अपना परंपरागत तरीका बदलना शुरू कर दिया है और अब ये छोटे साइज़ के ड्रोन का इस्तेमाल करने लगा है. अभी हाल ही में जम्मू एयर बेस में इसका इस्तेमाल करके नुकसान पहुंचाया गया, फिर बीएसएफ के जवानो ने भी एक ड्रोन को भारतीय सीमा में घुसते समय स्पॉट किया था जिसे रोकने की कोशिश करने पर ये उड़कर के वापिस चला गया. राजस्थान की जैसलमेर सीमा पर भी ऐसे ड्रोन नजर आने लगे है.

रडार सिस्टम इनको पकड़ पाने में नही है पूरी तरह सक्षम, नयी रणनीति की जरूरत अभी के लिए सबसे बड़ी समस्या ये है कि ड्रोन इतने छोटे होते है और इतनी कम उंचाई पर उड़ते है कि रडार सिस्टम जो सीमा पर लगे होते है वो इनको पकड़ ही नही पाते है जिसके कारण से ये पकड़ में नही आते है और नुकसान भी अधिक मात्रा में कर पाने में सफल हो जाते है.

ऐसे में अभी के लिए तो दूरबीन से सैनिक इन पर नजर रखने की कोशिश करते है और जैसे तैसे करके अपने पास मौजूद यंत्रो की सहायता से इनको खदेड़ते है लेकिन अभी जरूरत है कि इनको काउंटर करने के लिए कोई नया सिस्टम विकसित कर लिया जाए, वरना ये राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए अच्छा नही होगा.