भाजपा के साथ आई मायावती, सपा के खिलाफ छेड़ी जंग

राजनीति के खेल का दांव पेच समझना बहुत ही मुश्किल कार्य है. ये राजनीति नाम का जो शब्द है इसको बदलते देर नहीं लगता कभी ये उसी पार्टी का समर्थन करवाता है तो कभी ये उसी पार्टी के विरोध में बोलवा देता है. जी हाँ हम बात कर रहें हैं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मायावती जी की इन्होंने एक समय में समाजवादी पार्टी से गठबंधन किया था. लेकिन अब समय बदलने के साथ – साथ इनका विचार भी बदल गया है और अब यह उसी समाजवादी पार्टी के खिलाफ बोलने लगी हैं. तो आईये जान लेते हैं कि मायावती जी ने समाजवादी पार्टी के खिलाफ क्या कहा है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के समय हुई हिंसा को लेकर बहुजन समाज पार्टी की चीफ मायावती ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए बताया कि क्यों उनकी पार्टी पंचायत चुनाव नहीं लड़ती है. उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती जी ने ट्वीट करके कहा कि यूपी पंचायत चुनाव में भारतीय जनता पार्टी द्वारा पहले जिला पंचायत अध्यक्ष व अब ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान भी सत्ता व धनबल का घोर दुरुपयोग व लड़ाई आदी जो हो रहा है वो समाजवादी पार्टी की ऐसी अनेकों यादें तजा करा रहा है. उन्होंने कहा कि यही कारण है कि बहुजन समाज पार्टी ने इन दोनों अप्रत्यक्ष चुनावों को नहीं लड़ने का फैसला किया.

पूर्व मुख्यमंत्री रही मायावती जी ने आगे समाजवादी पार्टी पर तंज कसते हुए कहा कि बात – बात पर हल्लाबोल के तेवर रखने वाली समाजवादी पार्टी यहां के गरीबों, किसानों व बेरोजगारों आदी के अधिकारों तथा दलितों, पिछड़ों व मुस्लिम समाज के ऊपर यहां लगातार हो रहे लड़ाई व अत्याचार और अन्याय अदि पर अभी तक निष्क्रिय क्यों रही है? यह भी सोचने की बात है. मयावती जी ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव का समय करीब है तब भारतीय जनता पार्टी के विरुद्ध समाजवादी पार्टी जो जुबानी विरोध और अक्रामकता दिखा रही है. वह घोर छलावा व अविश्वसनीय है. क्योंकि इन्ही सब सत्ता के दुरूपयोग व हर कीमत पर चुनाव जीतने आदी के लिए सपा का पूरा शासन काल बहुत अधिक चर्चाओं में रहा है. जनता कुछ भी नहीं भूली है.