ब्लॉक प्रमुख चुनाव : समाजवादी पार्टी का अपने गढ़ में ही हो गया सूपड़ा साफ़, भाजपा ने दर्ज की शानदार जीत, निर्दलियों ने भी सपा को पछाड़ा

उतर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में भाजपा को शानदार जीत मिली. पंचायत चुनाव की तरह ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी समाजवादी पार्टी को जोरदार झटका लगा. 2022 में यूपी की सत्ता में आने के सपने देख रही सपा को सबसे जोरदार झटका तो अपने गढ़ में ही लगा. फिरोजाबाद, आजमगढ़ में भाजपा ने ज्यादातर सीटों पर कब्ज़ा कर लिया और सपा की झोली खाली रह गई. आजमगढ़ तो सपा प्रमुख अखिलेश यादव का संसदीय क्षेत्र है. यहाँ भी पार्टी की दाल नहीं गली.

फिरोजाबाद और आजमगढ़ को सपा का गढ़ माना जाता है. फिरोजाबाद जिले में 9 ब्लॉक हैं. 3 ब्लॉक एटा, टूंडला और नारखी में भाजपा के प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हुए जबकि आज जब 6 सीटों प् चुनाव हुए तो उनमे से 4 सीटें भाजपा ने जीत ली और 2 सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों ने झटक ली. समाजवादी पार्टी को एक भी सीट नहीं मिल सकी और पार्टी का अपने गढ़ में ही सूपड़ा साफ़ हो गया. उसी तरह आजमगढ़ में भी सपा को भारी नुकसान उठाना पड़ा. आजमगढ़ जिले में 22 ब्लॉक हैं जिसमे से 12 सीटों पर भाजपा ने कब्ज़ा किया जबकि समाजवादी पार्टी को महज 5 सीटों से संतोष करना पड़ा. आजमगढ़ में 5 सीटें निर्दलियों ने झटक ली.

ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में शानदार जीत के सीएम योगी बेहद खुश नज़र आये. उन्होंने कहा पीएम नरेंद्र मोदी ने आज से 7 साल पहले इस देश को सबका साथ सबका विकास का नारा दिया था. जो योजनाएं बनाई गई सब तक पहुंची भी. प्रदेश सरकार और संगठन ने योजनाओं को लोगों तक पहुंचाया. इसी का परिणाम है कि पंचायत चुनाव में भी पार्टी को शानदार सफलता हासिल हुई थी. सीएम ने कहा 825 में 735 ब्लॉक में बीजेपी ने अपने प्रत्याशी खड़े किए थे. कुछ जगह दोनों कार्यकर्ता बीजेपी के ही लड़ रहे थे. कुल 90 सीटें हमने छोड़ दी थी. अभी तक के रुझानों में 635 से अधिक सीटों में बीजेपी विजयी बन रही है. यह संख्या अभी और बढ़ेगी.