अपने बेबाक अंदाज और कर्मठता के लिए पीयूष गोयल को मिलेगा इनाम, मोदी जी ने दिया बड़ा तोफा

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि पीयूष गोयल एक प्रखर और सख्त अंदाज वाले नेताओं में से एक हैं. भाजपा के सदस्य के रूप में अपने लंबे कार्यकाल में, उन्होंने कई महत्वपूर्ण भूमिकाओं में काम किया और चुनाव के दौरान अपने अभियान का प्रबंधन किया. वे वर्ष 2010 में राज्यसभा के लिए चुने गए और बाद में वर्ष 2016 में दूसरे कार्यकाल के लिए फिर से चुने गए. राज्यसभा में अपनी पहली नियुक्ति के बीच अंतरिम रूप से, उन्हें नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में शामिल किया गया और उन्होंने कई मंत्री पद पर भी कार्य किये. इसी के साथ ही आपको बता दें कि मॉनसून सत्र से पहले ही भारतीय जनता पार्टी ने बड़ा फैसला लिया है. आईये बीजेपी के इस फैसले के बारे में जानते हैं.

आपको बता दें कि राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से पीयूष गोयल को सदन का नेता चुना गया है. इससे पहले थावर चंद्र गहलोत इस जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे थे. पीयूष गोयल को सदन का नेता इसलिए चुना गया है. क्योंकि थावर चंद्र गहलोत को कनार्टक का राज्यपाल बना दिया गया है. इस वजह से पीयूष गोयल को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है.

अभी हाल ही में हुए मंत्री मंडल विस्तार के बाद पीयूष गोयल को कपड़ा मंत्रालय, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय और उपभोक्ता मामले के साथ ही खाद्य एवं सार्वजनिक मंत्रालय की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है. बता दें कि इससे पहले पीयूष गोयल के पास रेल मंत्रालय भी था. इसी के साथ ही आप ये भी जान लें कि मॉनसून सत्र से पहले बीते रविवार को सरकार ने संसद में सर्वदलीय बैठक बुलाई थी. इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उपस्थित थे. इस तरह की बैठक का अर्थ ये होता है कि सदन की कार्यवाही को सुचारू रूप से चलाने के लिए विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाती है.