वन महोत्सव के अवसर पर CM योगी ने दिया ‘वन है तो कल है’ का मूल मंत्र, साथ ही दिया ये आदेश

हमारे देश में वनों और पेड़ पौधों का कितना महत्त्व है ये तो सभी जानते है लेकिन अब धीरे धीरे वन और पेड़ पौधे खत्म होते जा रहे है. जिस कारण से धरती में कई तरह का बदलाव देखने को मिल रहे है. वही वनों का क्षेत्रफल बढ़ाने और लोगो के बीच पौधारोपण की भावना जगाने के लिए हर साल 1 से 7 जुलाई के बीच वन महोत्सव मनाया जाता है. वही CM योगी आदित्यनाथ ने वन महोत्सव की शुभकामनाये दी है.

साथ ही CM योगी ने कहा कि “मैं वन महोत्सव की सभी को बधाई देता हूं. ये महोत्सव सिर्फ एक पेड़ लगाने तक सीमित नहीं बल्कि प्रकृति के प्रति अपनी लगन को बताने का समय है. पूरी दुनिया जहां कोरोना महामारी से जूझ रही है वही प्रकृति हमें उससे बचाने का काम कर रही है. पर्यावरण के साथ खिलवाड़ दुष्परिणाम लाता है. पूरा विश्व उसकी चपेट में आ जाता है.”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “यूपी की सभी संस्थाओं और विभाग और वन विभाग से मिलकर के 30 करोड़ वृक्ष लगाने के टारगेट को पूरा करेंगे.” जाहिर है कि वृक्षों को बचाना और अधिक से अधिक वृक्ष लगाने से पर्यवरण में काफी सुधार आएगा. साथ ही इन वृक्षों को कटने से रोकने के लिए सभी को पहल करने की जरूरत है साथ ही इनकी देखरेख करना सबकी नैतिक जिम्मेदारी भी है.