In Memory Of Dilip Kumar: ट्रेजेडी किंग के वो सदाबहार गाने जो हिट थे और हमेशा हिट रहेंगे

In Memory Of Dilip Kumar: ट्रेजेडी किंग के वो सदाबहार गाने जो हिट थे और हमेशा हिट रहेंगे

In Memory Of Dilip Kumar: ट्रेजेडी किंग के वो सदाबहार गाने जो हिट थे और हमेशा हिट रहेंगे

बॉलीवुड के एक युग का आज अंत हो गया है। दिलीप कुमार (Dilip Kumar) साहब इस दुनिया को छोड़कर चले गए। 98 साल की उम्र में ट्रेजेडी किंग ने मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में अंतिम सांसे ली है। खबरें है कि एक्टर का पार्थिव शरीर मुंबई के बांद्रा में स्थित उनके बंगले पर पहुंच गया है। दिलीप साहब के पार्थिव शरीर को आज शाम पांच बजे अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाएगा। एक्टर के निधन से फिल्म इंडस्ट्री समेत पुरे देश में शोक की लहर है। पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से लेकर के यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Aadityanath) और पूर्व सीएम अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने उन्हें याद करते हुए श्रद्धांजली दी है। उनके घर पर बॉलीवुड के तमाम दिग्गज उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे थे।

अपने एक्टिंग के टैलेंट से दिलीप कुमार ने सभी का दिल जीता है। उनके हर अंदाज पर दर्शक फिदा थे और आज तक दिलीप साहब फैंस के दिलों में बसते हैं। एक्टर के कुछ बेहतरीन गाने ऐसे हैं जो आज भी लोगों के ज़ुबान पर रहते हैं। तो हम आपको ऐसे ही कुछ गानों के बारें में बताने जा रहे हैं।

1. उड़ें जब जब ज़ुल्फें तेरी  (Udein Jab Jab Zulfen Teri )

दिलीप साहब की फिल्म 'नया दौर' (Naya Daur) उन दिनों काफी हिट थी। जितना ये फिल्म हिट हुई थी उतने ही इस फिल्म के गाने हिट थे। ये गाने उस समय तो चले ही थे, इसके साथ ही साथ ये आज के समय में भी उतने ही फेमस हैं। तो पहला गाना इसी फिल्म से हैं, जिसके बोल हैं 'उड़ें जब जब ज़ुल्फें तेरी'।

2.  मांग के साथ तुम्हारा  (Maang Ke Saath Tumhara)

दूसरा गाना फिल्म 'नया दौर' से ही है। ये गाना है 'मांग के साथ तुम्हारा'। इस गाने को दिग्गज सिंगर मोहम्मद रफी (Mohammad Rafi) और आशा भोसले (Asha Bhosle) ने साथ मिलकर गाया था।

3. ऐ वतन तेरे लिए  (Aye Watan Tere Liye)

दिलीप साहब वो एक्टर थे जो हर तरह के किरदार में फिट बैठते थे। चाहें वो किरादार रोमांटिक हो या फिर देश भक्त। फिल्म 'कर्मा' (Karma) में दिलीप साहब ने एक देशभक्त का किरदार निभाया था। इस फिल्म का गाना है 'ऐ वतन तेरे लिए'। यह गाना आज भी कुछ खास मौके पर बहुत सुना जाता है।

4. इमली का बूटा  (Imli Ka Boota)

दिलीप साहब और राजकुमार (Rajkumar) को काफी समय तक एक साथ नहीं देखा गया था। लेकिन एक डायरेक्टर ने दोनो को साथ लाने की हिम्मत की। वह थे सुभाष घई (Subhash Ghai) उन्होंने दोनो को एक साथ लाने की हिम्मत दिखायी और 'सौदागर' (Saudagar) फिल्म बनायी। इस फिल्म के सभी गाने हिट थे लेकिन एक गाना था जो आज भी लोगो के जुबान पर रहता है। 'इमली का बूटा बेरी का बेर' इस गाने को सुदेश भोंसले (Sudesh Bhonsale) और मोहम्मद अजीज़ (Mohammad Aziz) ने गाया था।

5. सुहाना सफर और ये (Suhana Safarn Aur Ye)

पांचवा गाना है फिल्म 'मधुमती' (Madhumati) से 'सुहाना सफर और ये'। इस गाने को दिग्गज सिंगर मुकेश (Mukesh) ने अपनी आवाज दी थी। इस फिल्म में दिलीप कुमार साहब के साथ थी एक्ट्रेस वैजयंती माला (Vyjayantimala)।