ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं का बड़ा दावा, कलौंजी से हो जाएगा कोविड 19 का इलाज

कलौंजी

कलौंजी

Health Benefits of Nigella Sativa :  कलौंजी (Nigella Sativa) के वैसे तो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते है। हाल ही में एक रिसर्च में दावा किया गया है कि कलौंजी का इस्तेमाल कोविड 19 (Covid 19) में इलाज के लिए भी किया जा सकता है। यह रिसर्च सिडनी (Sydney) में यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी (University of Technology) के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में किया है। रिसर्चर्स का दावा है कि कलौंजी, कोविड-19 संक्रमण के इलाज में काफी हेल्प मिल सकती है।

मीडिया रिपोर्ट्स, के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं का कहना है कि कलौंजी नामक पौधे के बीजों का इस्तेमाल कोविड-19 संक्रमण के इलाज में किया जा सकता है। यह रिसर्च क्लिनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल फार्माकोलॉजी एंड फिजियोलॉजी जर्नल (Clinical and Experimental Pharmacology and Physiology) में पब्लिश किया गया है।


यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर कनीज फातिमा शाद का कहना है कि ''मॉडलिंग अध्ययनों से इस बात के प्रमाण बढ़ रहे हैं कि थाइमोक्विनोन (Thymoquinone), निगेला सैटिवा (Nigella Sativa) का एक सक्रिय संघटक, जिसे आमतौर पर सौंफ के फूल (Fennel Flower) के रूप में जाना जाता है, COVID-19 वायरस स्पाइक प्रोटीन से चिपक सकता है और वायरस को फेफड़ों में संक्रमण (lung infection) पैदा करने से रोक सकता है। प्रोफेसर कनीज़ फातिमा शाद ने कहा, "यह 'cytokine'स्टोर्म को भी रोक सकता है, जो गंभीर रूप से बीमार रोगियों को प्रभावित करता है, जो COVID-19 के चलते अस्पताल में भर्ती हैं।"


जानवरों पर भी किया जा चुका है रिसर्च

थाइमोक्विनोन (Thymoquinone) का जानवरों पर एक बड़े पैमाने पर रिचर्स किया गया है। इन अध्ययनों से पता चला है कि थायमोक्विनोन हमारी इम्यून सिस्टम (immune system) को अच्छे तरीके से मॉडरेट कर सकता है, जिससे इंटरल्यूकिन्स (Interleukins) जैसे प्रो-इंफ्लेमेशन केमिकल्स (Pro-Inflammation Chemicals) को निकलने से रोका जा सकता है।



कलौजी के अन्य फायदें

-कलौजी में एंटीऑक्सिडेंट भरपूर मात्रा में पाएं जाते हैं, जिसे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और शरीर में संक्रमण का खतरा कम होता है। 

-कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। 

-कैंसर से लड़ने वाले गुण पाए जाते है.  

-बैक्टीरिया को मारने में मदद कर सकता है।

-सूजन को कम कर सकता है। 

-लीवर प्रोबल्म में हेल्प कर सकता है। 

-रक्त शर्करा नियमन (Blood Sugar Regulation) में सहायता कर सकते हैं। 

-पेट के अल्सर को रोक सकती है।