तालिबान को लगा जोरदार झटका, पंजशीर घाटी में विद्रोहियों ने 300 तालिबानी आ’तंकि’यों को मार डाला, कई को बनाया बंदी

तालिबान ने काबुल समेत लगभग पूरे अफगानिस्तान पर कब्ज़ा तो कर लिया लेकिन पंजशीर घाटी अब भी उसकी पहुँच से दूर है. अमेरिका के अफगानिस्तान में कदम रखने से पहले जब तालिबान का राज था तब भी पंजशीर घाटी उसकी पहुँच से दूर थी. और आज जब 20 सालों बाद तालिबान वापस अफगानिस्तान की सत्ता में लौट आया है तब भी पंजशीर घाटी उसकी पहुँच से दूर है. तालिबानी आ’तंकी लगातार पंजशीर घाटी की तरफ बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन उन्हें करारा झटका लगा है. पंजशीर के विद्रोहियों ने लगभग 300 तालिबान आ’तंकि’यों को मा’र डाला.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पंजशीर विद्रोहियों ने न सिर्फ 300 तालिबान लड़ाकों को मा’र डाला बल्कि कईयों को बंदी भी बना लिया है. बीबीसी की पत्रकार यालदा हकीम ने कुछ तालिबानियों की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा है कि ‘तालिबान विरोधी मूवमेंट ने मुझे बताया कि ये बगलान प्रांत के अंदराब में युद्ध के दौरान बंदी बनाए गए तालिबानी कैदी हैं.’

बताया जा रहा है कि तालिबान ने कारी फसीहुद दीन हाफिजुल्लाह के नेतृत्व में पंजशीर पर ह’मला करने के लिए सैकड़ों लड़ाकों को भेजे थे, लेकिन बगलान प्रांत की अंदराब घाटी में घात लगाकर बैठे पंजशीर के विद्रोहियों ने उन पर ह’मला कर दिया. तालिबान के लिए ये हाल के दिनों में दूसरा बड़ा झटका है. दो दिनों पहले ही उनके हाथ से 3 बड़े जिले निकल गए और विद्रोहियों ने उसपर दोबारा कब्ज़ा कर तालिबान को खदेड़ दिया था.