अफगानिस्तान के 6 शहरों पर कब्जे के बाद अब तालिबान पहुंचा मज़ार-ए-शरीफ तक, भारत ने अपने लोगों को निकालने के लिए भेजा वायुसेना का विशेष विमान

अमेरिका के अफगानिस्तान से निकलने के बाद तालिबान लगातार शहर दर शहर पर अपना कब्ज़ा जमाता जा रहा है. अब तक तालिबान आ’तंकी अफगानिस्तान के 6 शहरों पर कब्ज़ा कर चुके हैं और अब उनका अगला निशाना तजाकिस्तान से सटा शहर मजार-ए-शरीफ है. अफगान सेना और तालिबान के बीच मजार-ए-शरीफ के बाहरी इलाके में भीषण युद्ध चल रहा है. मजार-ए-शरीफ पर भारत की भी नज़रें टिकी है क्योंकि इस वक़्त वहां पर भारत का एकमात्र महावाणिज्‍य दूतावास सक्रिय है. भारत की चिंता महावाणिज्‍य दूतावास में काम कर रहे कर्मचारियों की सुरक्षा है. इसलिए उन्हें विशेष विमान के जरिये मजार-ए-शरीफ से निकालने का फैसला किया गया है.

भारतीय वायुसेना का एक विशेष विमान भारतीय कर्मचारियों को एयरलिफ्ट करने के लिए मज़ार-ए-शरीफ पहुँचने वाला है. भारत ने मज़ार-ए-शरीफ में रहने वाले अपने तमाम नागरिकों से आग्रह किया है कि वे इस विशेष विमान में सवार होकर वहां निकल जाएं. ये विशेष विमान आज शाम मजार-ए-शरीफ से नई दिल्ली के लिए रवाना होगा. भारतीय नागरिकों से कहा गया है कि जो लोग वहां से निकलना चाहते हैं, वे अपनी सारी डिटेल भेज दें. इससे पहले भारत ने अफगानिस्‍तान में सक्रिय कई महावाणिज्‍य दूतावासों में तैनात कर्मचारियों को निकाल लिया था.

मज़ार-ए-शरीफ का महावाणिज्‍य दूतावास बंद हो जाने के बाद अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में स्थित भारतीय दूतावास में कर्मचारी अभी बने रहेंगे. माना जा रहा है कि इस हफ्ते के अंत तक मज़ार-ए-शरीफ पर तालिबान का कब्ज़ा हो जायेगा. मज़ार-ए-शरीफ उत्तरी अफगानिस्तान का सबसे बड़ा शहर है.