Birthday Special: कुछ ऐसी थी गुलज़ार और राखी की प्रेम कहानी, जानिए खुशहाल शादीशुदा जिंदगी में कैसे आयी दरार

हिंदी सिनेमा में अपनी शायरी, गीतों और कहानियों से जान डाल देने वालें गुलज़ार साब (Gulzar) ने आज अपने जीवन के 87 साल पूरे कर लिए हैं। ब्रिटिश इंडिया के पंजाब के दीना में 18 अगस्त साल 1934 को पैदा हुए गुलज़ार का असली नाम संपूर्ण सिंह कालरा (Sampooran Singh Kalra) था। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुलज़ार साहब ने अपने करियर की शुरुआत म्यूज़िक डायरेक्टर एसडी बरमन (SD Burman) के लिए साल 1963 में आयी फिल्म 'बंदिनी' (Bandini) में गानें लिखने के साथ की थी। गुलज़ार ने अपने करियर की लंबी पारी में आरडी बरमन, सलिल चौधरी, विशाल भरद्वाज और एआर रहमान जैसे कई म्यूजिक डायरेक्टर के साथ काम किया। उन्हें साल 2004 में पद्म भूषण अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। गुलज़ार साहब की प्रोफेशनल लाइफ के बारें में तो सभी जानते है। तो आज उनके जन्मदिन पर हम उनकी लव स्टोरी के बारें में बताएंगे....


गुलज़ार और राखी की प्रेम कहानी

कहा जाता है कि बॉलीवुड की वेटेरन एक्ट्रेस राखी (Rakhee) जिस समय अपने करियर के चरम पर थी उसी समय उनकी मुलाकातें गुलज़ार साब के साथ थोड़ी ज्यादा होनें लगी। गुलज़ार साहब को राखी की मल्टीटैलेंटेड पर्सनैलिटी काफी पसंद आती थी। इसके चलते दोनों में प्रेम हुआ जिसके बाद साल 1973 में गुलज़ार ने राखी से शादी कर ली। शादी के एक साल के अंदर ही दोनों की बेटी मेघना गुलज़ार (Meghna Gulzar) के पैदा होने की खबर भी इंडस्ट्री में छा गयी। अभी शादी को हुए कुछ समय ही बीता था कि एक दिन खबर आयी की गुलज़ार और राखी ने एक- दूसरे से अलग होनें का फैसला ले लिया है। लोगों में इस बात की जिज्ञासा होने लगी कि गुलजार और राखी की शादीशुदा जिंदगी काफी अच्छी चल रही थी तो फिर ऐसा क्या हुआ कि दोनों ने अलग होनें का फैसला ले लिया।


इस खास वजह से हुए अलग

खबरों की मानें तो दरअसल शादी से पहले गुलज़ार ने राखी के आगे एक शर्त रखी थी, जिसमें मशहूर संगीतकार नें एक्ट्रेस से कहा था कि शादी के बाद उन्हें फिल्मों में काम करना बंद करना होगा। राखी ने इस शर्त को खुशी- खुशी स्वीकार कर लिया और शादी के बाद फिल्मी दुनियां से दूरी बना ली। उस समय गुलज़ार कई सारी फिल्मों के लिए काम कर रहे थे सो एक्ट्रेस को लगा कि वह अपनी फिल्मों में उन्हें कोई न कोई छोटा काम करने के लिए मंजूरी दे देंगे, पर ऐसा हुआ नहीं। जिसके चलते एक्ट्रेस घर पर अकेला महसूस करने लगी। इस अकेलेपन को दूर करने के लिए एक्ट्रेस ने दोबारा से फिल्मों में काम करना शुरु कर दिया। लेकिन उन्हें क्या पता था कि इस काम की कीमत उन्हें अपनी शादीशुदा जिंदगी को खो कर देनी होगी। राखी के फिल्मों पर वापिस लौटने से गुलज़ार ज़रा भी खुश नहीं थे, ऐसे में अक्सर दोनों में लड़ाईयां होने लगी और फिर एक दिन दोनो अलग हो गए।

गुलज़ार और राखी के रास्ते कुछ यूं हुए जुदा

राखी और गुलज़ार के अलग होने के पीछे एक और बड़ा कारण बताया जाता है। ऐसा सुना जाता है कि 'आंधी' (Aandhi) फिल्म की शूटिंग के दौरान एक पार्टी में एक्टर संजीव कुमार (Sanjeev Kumar) के साथ एक्ट्रेस सुचित्रा मौजूद थे। इस दौरान संजीव ने ज्यादा शराब पी ली जिसके चलते एक्टर अपने होश खो बैठे और एक्ट्रेस के थोड़ा ज्यादा करीब आने की कोशिश करने लगे। ये देख सुचित्रा (Suchitra) काफी भड़क गयी, जिस कारण एक्ट्रेस को शांत कराने और उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गुलज़ार ने उन्हें उनके कमरे तक छोड़कर आने का फैसला किया। गुलज़ार को सुचित्रा को समझानें में काफी टाइम लगा। एक्ट्रेस को समझाकर गुलज़ार उनके कमरें से निकल रहे थे तो उन्होंने अपनी पत्नी राखी को सामने खड़ा पाया। अपने पति को आधी रात किसी दूसरी महिला के कमरे से बाहर आता देख राखी काफी गुस्सा हो गयी। कहा जाता है कि उस रात दोनों पति- पत्नी में काफी झगड़ा हुआ था। इसके बाद राखी ने फिल्म 'कभी कभी' (Kabhi Kabhi) साइन कर ली और इस कारण गुलज़ार उनसे और ज्यादा नाराज हो गए। इस घटना के बाद दोनों के रास्ते जुदा हो गए। हालांकि इन सब के बाद भी दोनों ने तलाक नहीं लिया था लेकिन आज भी राखी और गुलज़ार एक- दूसरें से अलग रहते हैं।