सीएम योगी ने निभाया अपना कर्तव्य, कल्याण सिंह के अंतिम सफर पर परिवार की तरह कंधे से कंधा मिलाकर आएं नजर

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राम मंदिर के लिए जानी-मानी भूमिका निभाने वाले कल्याण सिंह ने शनिवार को दुनिया से अलविदा कह दिया. इस खबर के पता चलते ही लोगों की आंखें नम हो गईं. वहीं, उनके अंतिम सफर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ हर कदम पर साथ दिखे. बताते चलें की उनके निधन पर 3 दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया.

आपको बता दें कि, जैसे ही पूर्व सीएम कल्याण सिंह के निधन की खबर मिली उसके बाद से ही सीएम योगी आदित्यनाथ हर एक पल पर मौजूद रहें. सीएम योगी शनिवार रात में ही कल्याण सिंह के घर पहुंचे और वहां पर उन्होंने अपने मंत्रियों की ड्यूटी भी लगाई. सीएम योगी ने परिवार की तरह हर एक दायित्व समझा और उसे निभाया.

मिली जानकारी के मुताबिक, रात में ही कैबिनेट बैठक कर प्रस्ताव पास कराया गया और शांति पाठ प्रारंभ किया गया. वहीं, पूजा पाठ के साथ अंतिम दर्शन की ड्यूटी की जिम्मेदारी मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को सौंपी गई. वहीं, विज्ञान भवन में पार्थिव देह को विपक्षी दलों के नेताओं के दर्शन कराने के लिए रखा गया. बता दें कि पार्थिव देह को विज्ञान भवन तक लाने की जिम्मेदारी डॉ महेंद्र सिंह और आशुतोष टंडन को सौंपी गई.

सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी की अगवानी करने के लिए सीएम योगी एयरपोर्ट पहुंचे. इसके बाद जब पीएम मोदी दिल्ली के लिए रवाना हुए तो सीएम योगी कल्याण सिंह के घर पहुंचे. वहीं, रविवार को एयर एंबुलेंस के जरिए कल्याण सिंह का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव अतरौली लाया गया. वहीं, सीएम योगी और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव भी हेलीकाप्टर के जरिए अलीगढ़ पहुंचे.

इसके अलावा सीएम योगी के निर्देश पर प्रभारी मंत्री सुरेश राणा अहिल्याबाई होलकर स्टेडियम, अतरौली गेस्ट हाउस और कल्याण सिंह के गांव मढ़ौली से लेकर नरौरा तक के सड़क मार्ग का निरीक्षण किया.

सीएम योगी ने कल्याण सिंह के लिए जितना कुछ भी अपनी तरफ से किया उसके बारे में लोगों के मुंह पर चर्चा रहती है. बीजेपी के प्रदेश मंत्री चंद्रमोहन सिंह बताते हैं कि, जननायक कल्याण सिंह के बीमारी के बाद ही मुख्यमंत्री योगी अपने परिवार की मुखिया की तरह देखभाल करते रहें. मुख्यमंत्री जी हर रोज डॉक्टर से हाल-चाल लिया करते रहते थे. मालूम हो कि, यूपी पूर्व सीएम कल्याण सिंह ने राम मंदिर के लिए कितनी ही मशक्कत की और उनकी ही मेहनत का नतीजा है कि उनके जीते जी राम मंदिर के निर्माण की नींव रखी गई. मालूम हो कि कल्याण सिंह लंबे समय से बीमार चल रहें थे और शनिवार को उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.