कश्मीर के जिस लाल चौक पर तिरंगा फहराने पर होती थी गिरफ्तारी, आज वहीं तिरंगा रंग से नहाया

जम्मू कश्मीर के लाल चौक पर जहां कभी तिरंगा फैराने पर बवाल मच जाता था वहीं अब स्वतंत्रा दिवस के मौके पर पूरा लाल चौक ही तिरंगा रंग में रंग दिया गया है. दरअसल  5 अगस्त 2019 को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर जश्न भी मनाया गया था है लेकिन अब वहां स्वतंत्रता दिवस की तैयारी चल रही है. आजादी के बाद ऐसा पहला मौका है जब लाल किले को तिरंगे रोशनी में रंगा गया है.

श्रीनगर का लाल चौक हमेशा सुर्खियों में रखा है. यहां पहले तिरंगा फहराने को लेकर गिरफ्तारी भी हुई हैं. लेकिन अनुच्छेद 370 हटने से काफी बदलाव देखने को मिली हैं.श्रीनगर के मेयर ने ट्वीटर पर लाल चौक पर स्वतंत्रता दिवस की तैयारी को लेकर पोस्ट किया है. जिसमें लिखा है कि हमने स्वतंत्रता दिवस से पहले लाल चौक को तिरंगा रोशनी से सजाया है और इसमें अब एक नई घड़ी भी लगा दी. नगर निगम की मदद से बहुत अच्छा काम किया गया है.

बता दें कि  कभी जम्मू कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फैराने से गिरफ्तारी होती है, ये हमेशा ही बहस का मुद्दा रहा है, करीब 29 साल पहले की बात है जब  26 जनवरी 1992 को बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में यहां तिरंगा फैराया था उस वक्त उनके नरेंन्द्र मोदी भी मौजूद रहे थे.

सोशल मीडिया पर जब से ये तस्वीर पोस्ट की गई हैं तभी से इस तस्वीर को जमकर शेयर किया जा रहा है. बीजेपी पार्टी के नेता और भाजयुमो के राष्ट्रीय सचिव तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी इस तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा है कि वो कहते थे लाल चौक पर तिरंगा नहीं फहराने देंगे,नरेंद्र मोदी ने लाल चौक को ही तिरंगा कर दिया।