माता पिता के पास नहीं थे पैसे तो बेच दी जमीन, फिर बेटी को इस तरह से बनाया पायलट

गुजरात में रहने वाली एक किसान की बेटी ने एक बड़ा मुकाम हासिल किया है. दरअसल गुजरात के सूरत में रहने वाली मैत्री पटेल अमेरिका से पायलट बनकर भारत लौटी है.खास बात ये है कि 19 वर्ष की उम्र में इस बेटी ने पायलट बनकर देश का नाम रोशन कर दिया है.

दरअसल एक समय ऐसा था कि जब मेत्री के पिता कांतिभाई  पटेल अपनी बेटी को ट्रैनिंग दिलाने के लिए बैंक से लोन लेना चाह रहे थे लेकिन उन्हें किसी भी बैंक से लोन नहीं मिल पाया,जिसके बाद उनके पिता कांतिभाई  पटेल व उनकी मां रेखा पटेल ने अपनी जमीन बेंच दी ताकि उनकी बेटी का सपना पूरा हो सके.

मेत्री पटेल का पायलट बनने का सपना तब से था जब वे 8 साल की थी जोकि अब जाकर पूरा हुआ है. मेत्री 12 कक्षा की पढ़ाई करने के बाद पायलट की ट्रेनिंग लेने  के लिए अमेरिका चली गई थी. 11 महीने की ट्रेनिंग लेने के बाद अब उन्हें कमर्शियल पायलट का लाइसेंस मिल चुका है.

अब मेत्री इतनी कम उम्र में पायलट बन गई हैं कि माता पिता की खुशी का ठिकाना नहीं रहा है. मैत्री ने कहा है कि अब वो एक कैप्टन के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहती हैं. फिलाहल अमेरिका से मैत्री पटेल को लाइसेंस मिल गया है वहीं अब भारत से विमान उड़ाने के लिए लाइसेंस मिलना बाकी है,तभी मैत्री भारत के विमान उड़ा सकेंगी.