अब किराना व खुदरा विक्रेताओं को अपना कारोबार बढ़ाने में मिलेगी मदद, Flipkart Wholesale ने शुरू की ये स्कीम

फ्लिपकार्ट होलसेल

फ्लिपकार्ट होलसेल

नई दिल्ली। ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) के डिजिटल बी2बी (Business to business) मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart wholesale) ने एक नयी ऋण योजना (New loan scheme) की घोषणा की, जिससे किराना दुकानों (Grocery stores) को अपनी कार्यशील पूंजी जरूरतों को पूरा करने और अपना कारोबार बढ़ाने में मदद मिलेगी। कंपनी ने एक बयान में कहा कि फ्लिपकार्ट होलसेल की ऋण पेशकश में आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC first bank) के साथ साझेदारी में 'ईजी क्रेडिट' शामिल है और यह देश में किराना की स्थानीय समस्याओं को हल करने के लिए की गयी पहलों के अनुरूप है।

कितना दिया जाएगा लोन?

इन नयी पेशकशों के माध्यम से, किराना दुकानें आईडीएफसी फर्स्ट बैंक और अन्य वित्तीय प्रौद्योगिकी संस्थानों के साथ साझेदारी में एंड-टू-एंड डिजिटल ऑनबोर्डिंग (end to end digital onboarding) के माध्यम से शून्य लागत पर ऋण हासिल कर सकते हैं। योजना के तहत 14 दिन तक की ब्याज मुक्त अवधि के तहत 5 हजार रुपये से दो लाख रुपये तक का ऋण दिया जाएगा।

क्या है इसका मकसद?

Flipkart Wholesale के सीनियर वाइस प्रेजीडेंट और प्रमुख आदर्श मेनन ने कहा कि कंपनी का मुख्य लक्ष्य किराना और खुदरा विक्रेताओं के लिए कारोबार को आसान बनाना और उनकी वृद्धि के सफर को बढ़ावा देना है। उन्होंने कहा कि हमारा मानना है कि हमारी नयी ऋण योजना उन स्थानीय चुनौतियों को हल करने के लिए तैयार की गयी है जिनका भारत में किराना दुकानें सामना करती हैं। इससे उन्हें अपने नकदी प्रवाह का प्रबंधन करने और हमारे मंच पर अपने खरीद के अनुभव को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी जिससे यह सुनिश्चित होगा कि पूरे B2B खुदरा पारिस्थितिकी तंत्र को डिजिटलीकरण के लाभ मिलें।