RBI ने चालू खातों के लिए नए नियमों को लागू करने की समयसीमा बढ़ायी, जानें क्यों लिया गया निर्णय

आरबीआई नए नियम

आरबीआई नए नियम

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank Of India) ने बैंकों के लिये चालू खातों (current accounts) के नए नियमों (new rules) को लागू करने की समयसीमा बढ़ाकर 31 अक्टूबर कर दी है। पिछले कुछ दिनों में छोटे कारोबारियों (small businessmens) के चालू खाते बंद किये जाने से उनके कारोबार पर पड़ रहे असर से जुड़ी विभिन्न रिपोर्ट के बाद यह निर्णय लिया गया है। RBI ने कहा कि चालू खाते के लिए नए नियमों का उद्देश्य कर्जदारों (debtors) के बीच ऋण अनुशासन (credit discipline) लागू करने के साथ-साथ बैंकों को बेहतर निगरानी की सुविधा देना है। उसने हालांकि नए चालू खाते और नकद ऋण/ओवरड्राफ्ट (loan/overdraft) सीसी/ओडी (CC/OD) सुविधाओं के मामले में बैंकों से सतर्क रुख अपनाने को कहा है।

उधारकर्ताओं की वास्तविक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए दिए निर्देश

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा कि बैंकों को इन निर्देशों को उधारकर्ताओं की वास्तविक व्यावसायिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए बिना किसी बाधा के लागू करने की जरुरत थी। उसने कहा कि पिछले कुछ दिनों में उसे छोटे कारोबारियों से बैंक द्वारा उनके खाते बंद किये जाने की शिकायतें मिली है। रिजर्व बैंक ने कहा कि नए नियमों को लागू करने संबंधी मुद्दों को हल करने के लिए उसे बैंकों से कुछ और समय के लिए अनुरोध प्राप्त हुए हैं। जिसके चलते नियमों को लागू करने की समयसीमा को बढ़ाकर 31 अक्टूबर, 2021 कर दिया गया है। आरबीआई ने कहा कि current accounts के लिए नए नियमों का उद्देश्य कर्जदारों के बीच ऋण अनुशासन लागू करने के साथ-साथ बैंकों को बेहतर निगरानी की सुविधा देना है।