बिकरू कांड में शामिल अमर दुबे की पत्नी ने पुलिस से पूछा ऐसा सवाल ,सिर झुका खड़े रहे दारोगा

बिकरू कांड आरोपी अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे पर पुलिस द्वारा फर्जी दस्तावेज की मदद से सिम कार्ड लेने का मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले को लेकर पुलिस ने ख़ुशी दुबे को किशोर न्याय बोर्ड में पेश किया। जहां बचाव पक्ष ने कोर्ट में एसआईटी रिपोर्ट ना मिलने की बात कही जिसके बाद बोर्ड ने ख़ुशी दुबे का बयान दर्ज करते हुए अगली सुनवाई की तारीख जारी कर दी। बोर्ड के सामने खुशी दुबे ने पुलिस से पूछा, ‘मुझे छोड़ने की बात कही गयी थी लेकिन मेरी जिंदगी बर्बाद की जा रही है। पुलिस चुप क्यों है?’ सवालों को सुनने के बाद पुलिस ने चुप्पी साधते हुए अपना सर झुका लिया। इतना ही नहीं जब बोर्ड ने पुलिस से खुशी दुबे के साथ नाबालिग होने के बाद भी बालिग जैसा व्यवहार करने का सवाल किया तब भी पुलिस मौन धारण किये खड़ी रही।
खुशी दुबे ने दावा करते हुए बोर्ड से कहा कि वह निर्दोष है और पुलिस की ओर से उसे फंसाया जा रहा है।

मालूम हो कि कानपूर बिकरू गांव में बीते वर्ष 2 जुलाई की आधी रात को गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने डीएसपी और एसओ समेत 8 पुलिसकर्मियों को दर्जनों गोलियां मार कर उनकी हत्या कर दी थी। जिसके बाद आठ दिन के अंदर-अंदर पुलिस और एसटीएफ ने मिलकर विकास दुबे समेत छह बदमाशों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। अभी भी इस मामले में 45 आरोपी जेल में बंद हैं।