चौथे एकम वर्ल्ड पीस फेस्टिवल का हुआ समापन, लाखों लोगों ने लिया हिस्सा, एक साथ किया मेडिटेशन

विश्व शांति व एकजुटता के उद्देश्य से आयोजित तीन दिवसीय ध्यान कार्यक्रम ‘एकम विश्व शांति महोत्सव 2021’ में 100 देशों के तकरीबन 2 करोड़ प्रतिभागी शामिल हुए. इतने ज्यादा देश के लोगों के प्रतिभागियों के शामिल होने से शांति व एकजुटता का दुनिया भर में अच्छा सन्देश पहुंचा है.

मिली जानकारी के मुताबिक, इसके लिए दुनिया भर के 43 शहरों में आधिकारिक तौर पर ‘एकम विश्व शांति महोत्सव’ शुरू किया गया और इस कार्यक्रम को हिंदी, इतालवी, मलयालम, जर्मन, तमिल, तेलुगु-कन्नड व स्पेनिश, रूसी, स्वीडिश, चीनी और कोरियाई सहित 19 अलग-अलग भाषाओं में एल्म के यूट्यूब चैनल से प्रसारित किया गया.

आपको बता दें कि, मुख्य अतिथियों के रूप में इस कार्यक्रम में प्रसिद्ध लेखक, एपिजेनेटिक्स क्वांटम भौतिकी और तंत्रिका विज्ञान के शोधकर्ता डॉ. जो डिस्पेंजा, ईरानी मूल की न्यूजीलैंड की राजनीतिज्ञ, न्यूजीलैंड की संसद के लिए चुनी जाने वाली पहली शरणार्थी गोलरिज घरमन और आत्मनिर्भर ग्रह बनाने वाले वैश्विक गठबंधन के महासचिव सत्य एस त्रिपाठी के साथ कई अन्य विश्व नेता शामिल हुए.

जानकारी के मुताबिक, तीन दिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत एकम मुख्यालय, चित्तूर आंध्र प्रदेश में ‘पीस फॉर हीलिंग इकोनॉमिक अनरेस्ट’ ध्यान के साथ हुई. दरअसल, कार्यक्रम का शीर्षक ‘पीस फॉर हीलिंग डिवीजन’ था. दुनिया भर में महामारी से उत्पन्न आर्थिक असमानता और पीड़ा को कम करने पर इस दिन ध्यान को केंद्रित किया गया. मालूम हो कि दुनिया भर में कोरोना महामारी का खतरा मंडरा रहा है और ऐसे में ये ध्यान करना फलदायी साबित हो सकता है. बताते चलें कि, ये उत्सव का चौथा संस्करण था लेकिन प्रत्येक संस्करण के साथ इसके शांति साधकों और शांतिदूतों की संख्या आश्चर्यजनक रूप से बढ़ी है.

मिली जानकारी के मुताबिक, प्रीथा और कृष्ण एकम के सह निर्माता, प्रबुद्ध संत, दार्शनिक और परिवर्तनकारी नेता हैं, जो दुनिया भर में लाखों लोगों को आध्यात्मिक यात्रा पर ले जा चुके हैं.

वहीं, एकम एक रहस्यवादी पावरहाउस है, जिसे मानवता को प्रबुद्ध अवस्थाओं में ले जाने की रुपरेखा से बनाया गया है. बताते चलें कि एकम सूर्य यंत्र या सूर्य के रहस्यमय रूप के पवित्र और प्राचीन सिद्धांतों पर बनाया गया है.