पंजशीर पूरी तरह तालिबान के कब्जे में, पूर्व उपराष्ट्रपति सालेह हुए गायब

तालिबान ने अपने संवाददाता सम्मेलन के दौरान दावा किया है कि देश के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह देश छोड़कर भाग गए हैं। पंजशीर की लड़ाई के दौरान, सालेह पंजशीर में थे और वह नेशनल रजिस्टेंस फोर्स (एनआरएफ) के साथ थे। पंजशीर तरफ से लड़ रही नेशनल रेजिस्टेंस फोर्स बेशक कह रही है कि तालिबान का कब्जा नहीं हुआ लेकिन एनआरएफ के ताजा बयानों से साफ लग रहा है कि तालिबान पुष्पा भारी पड़ रहा है. पंजशीर, अंद्राब, परवान, कापिशा और दूसरे प्रांत के लोग सच्ची इस्लामी व्यवस्था के लिए पिछले 40 सालों से संघर्ष कर रहे हैं, ऐसी स्थिति में इस्लामिक व्यवस्था कि सही ढंग से स्थापना करने के नाम पर तालिबान का पंजशीर, अंद्राब, परवान और कापिसा या दूसरे इलाकों पर हमला सही नहीं होगा।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने काबुल में अपने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्हें बताया गया है कि सालेह अफगानिस्तान छोड़कर ताजिकिस्तान भाग गए है।


पिछले हफ्ते सालेह ने एक वीडियो जारी कर कहा था कि वह घाटी से नहीं भागे हैं। तालिबान के एक प्रवक्ता ने आज कहा कि जिन लोगों के नियंत्रण में पंजशीर था वह “लापता” है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान उनका घर है और वह जब चाहें तब वापस घर लौट सकते हैं। उन्होंने बताया कि पंजशीर से बरामद हथियारों को अफगानिस्तान के हथियारों में शामिल किया जाएगा।