अफगनिस्तान: पिटाई के बाद पत्रकार ने तालिबानियों को लेकर किये बड़े खुलासे

अफगानिस्तान में तालिबान सरकार की घोषणा हो गई है। तालिबान के प्रवक्ता पहले समावेशी सरकार बनाने का दावा कर रहे थे, परंतु अब सच्चाई सामने आती दिख रही है। तालिबानियों ने फिर से महिलाओं को लेकर अपनी सोच सबके समक्ष ला दी है। दूसरी ओर, वे विरोध बर्दाश्त नहीं कर रहे। नई अंतरिम सरकार ने न केवल प्रदर्शनों को लेकर जनादेश जारी किया है, बल्कि पत्रकारों द्वारा जुलूस को कवर करने के साथ ही हिंसा भी शुरू कर दी है.


तालिबान द्वारा दो पत्रकारों की पिटाई के बाद तस्वीरों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि उनके साथ कैसा व्यवहार किया गया। उनकी ‘गलती’ बस इतनी सी थी कि वो महिला प्रदर्शन को कवर कर रहे थे. ये न केवल 2 पत्रकार हैं जो तालिबान की ज्यादतियों का शिकार हुए, बल्कि कई अन्य पत्रकारों को भी हिरासत में लिया गया और प्रताड़ित किया गया। इन अफगान पत्रकारों में से एक ने एनडीटीवी को अपनी आपबीती सुनाई।


पत्रकार अतिलातारोज़ ने एनडीटीवी को बताया कि उनके दो सहयोगियों को तालिबान ने पकड़ लिया और पुलिस मुख्यालय ले आए। “हम कई पत्रकार थे जिन्हें गिरफ्तार किया गया था। हमें दूसरे कमरे में रखा गया और कई बार पीटा गया। वे केबल से मारते थे। हम इतने घायल हो गए थे कि अकेले ऑफिस नहीं जा सकते थे। तीन-चार घंटे के बाद हमें छोड़ा गया फिर जैसे तैसे हम ऑफिस पहुंचे।