केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, मिड डे मील अब ‘पीएम पोषण’ के नाम से जानी जाएगी

सरकारी स्कूलों में मिलेने वाली राष्ट्रीय मध्याह्न भोजन योजना जिसे हम अभी तक मिड डे मील बोलते आएं हैं अब इसका नाम बदलकर अब ‘पीएम पोषण’ योजना हो गया है. इस पीएम पोषण योजना में बाल वाटिका से लेकर प्राथमिक विद्यालय के छात्रों को भोजन दिया जाएगा.

बुधवार को  केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक बैठक में इसे लेकर अपनी मंजूरी दी है. पीएम ने इसको लेकर एक ट्टीट भी किया है जिसमें लिखा है कि ”कुपोषण के खतरे से निपटने के लिए हम हरसंभव काम करने को प्रतिबद्ध हैं. पीएम-पोषण को लेकर केंद्रीय मंत्रिमंडल का निर्णय बहुत अहम है और इससे भारत के युवाओं का फायदा होगा.

शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के अनुसार, ये योजना पांच वर्षों 2021-22 से 2025-26 तक के लिए है, इस योजना पर 1.31 लाख करोड़ रुपये खर्च आएगा. बता दें कि MyGovIndia के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए  इन्फोग्राफिक के अनुसार इस योजना का लक्ष्य 11.20 लाख स्कूलों में 11.80 करोड़ बच्चों को शामिल किया जाएगा. इस योजना के तहत सरकारी व सरकारी सहायता व प्राप्त स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा एक से आठ तक के सभी स्कूली छात्र को इसमें लाभ प्राप्त होगा.