नीरज चोपड़ा को नहीं पसंद कोई और फील्ड, बताई जैवलिन थ्रो में करियर चुनने की वजह

टोक्यो ओलंपिक 2020 में शानदार जीत दर्ज करने वाले जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने लोगों के बीच एक खास पहचान बनायी है. नीरज चोपड़ा और पीआर श्रीजेश हाल ही में सोनी टीवी के मशहूर शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में पंहुचे थे जहां उन्होंने सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के प्रश्नों के उत्तर दिए और अपनी जिंदगी से जुड़े कई किस्से सुनाये.

दरअसल, अमिताभ बच्चन नीरज चोपड़ा से पूछते हैं कि, आपने जेवलिन थ्रो के खेल में रुचि कैसे ली. इस सवाल का जवाब देते हुए नीरज चोपड़ा कहते हैं, ”चाचा जी हमेशा पीछे पड़े रहते थे कि तुझे स्पोर्ट्स करना है. वो हमेशा पूछते थे कि पढ़ाई करेगा या स्पोर्ट्स. तो मैंने ऐसे ही सोचा कि पढ़ाई बोल देता हूं तो ये सोचेंगे कि वाह कितना पढता है लेकिन चाचा जी बोले- हमें पता है तू कितना पढ़ रहा है. तू स्पोर्ट्स में जाना चाहता है तो स्पोर्ट्स कर.

इसके बाद मैंने ध्यान दिया कि, मेरे सीनियर्स जेवलिन थ्रो कर रहे थे. मैंने जब देखा तो सोचा कि यह अच्छा लग रहा है. यह इतनी दूर जा रहा है और गड़ रहा है. ये देखकर मुझे काफी अच्छा लगा और मैंने ट्राई करके देखा. जब मैंने ट्राई किया तो मुझे और अच्छा लगा. वो एक ही स्पोर्ट मुझे अपनी लाइफ में ऐसा लगा कि मुझे करना है. वो दिल में ऐसे बस गया कि आज जैवलिन ही करना है और इसी जज्बे के साथ मैं आज देश के लिए गोल्ड मेडल जीत पाया.”

इसके बाद नीरज चोपड़ा ने अमिताभ बच्चन को बताया कि, ‘ये मेरा पहला ओलंपिक था और मैं कोरोना संक्रमित हो गया. मन में अलग-अलग तरह के सवाल उठ रहे थे, लेकिन गोल्ड जीतने पर मंच में जब भारत का राष्ट्रगान बजा तब लगा कि इससे बढ़कर कुछ नहीं है.’

मालूम हो कि, नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक 2020 में 87.58 मीटर दूर भाला फेंक कर इस खेल में गोल्ड जीतने वाले पहले भारतीय बने हैं जबकि श्रीजेश ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले पुरुष हॉकी टीम का हिस्सा रहें हैं.

बताते चलें कि, शो में काफी मस्ती हुई. नीरज चोपड़ा ने अमिताभ बच्चन की फिल्म जंजीर का फेमस डायलॉग हरियाणवी में बोला जिसे सुनने के बाद हर किसी ने हंसी के ठहाके लगाएं.