पीएम मोदी के सलाहकार के रूप में 1985 बैच के इस IAS अधिकारी को किया गया नियुक्त, लालू यादव को जेल पहुंचाने में रही अहम भूमिका

पूर्व केंद्रीय सचिव अमित खरे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है. बता दें कि अमित खरे 30 सितंबर को सचिव (उच्च शिक्षा) के पद से रिटायर हुए थे.


सूत्रों के मुताबिक, पूर्व केंद्रीय सचिव तथा 1985 बैच के आईएएस अधिकारी (IAS Officer) अमित खरे को मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है. एक आदेश में कहा गया है कि, मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने प्रधानमंत्री कार्यालय में पीएम मोदी के सलाहकार के रूप में अमित खरे की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है. जानकारी के मुताबिक, पूर्व केंद्रीय सचिव अमित खरे को दो साल के लिए अनुबंध के आधार पर नियुक्त किया गया है.


मिली जानकारी के मुताबिक, पूर्व कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा और पूर्व सचिव अमरजीत सिन्हा के इस साल सलाहकार के रूप में पीएमओ छोड़ने के बाद वह प्रधानमंत्री कार्यालय में शामिल हुए. उन्होंने पीएम मोदी के निर्देशन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को दिशा दी और साथ ही डिजिटल मीडिया नियमों के संबंध में सूचना और प्रसारण मंत्रालय में बदलाव लाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाई.


आपको बता दें कि, अमित खरे देश में बहुचर्चित चारा घोटोले का पर्दाफाश करने वाले अधिकारी हैं. उन्होंने चाईबासा उपायुक्त रहते हुए चारा घोटाले में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी, जिसके बाद मामलें मंध आक्रोश बढ़ गया था जिससे कई नेता और अधिकारी पर गाज गिरी थी और इसमें बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव का नाम शामिल है. मालूम हो कि लालू प्रसाद यादव सलाखों के पीछे हैं. इस मामलें की बात करें तो बता दें कि सरकारी खजाने से अवैध तरीके से तकरीबन 950 करोड़ रुपये की निकासी की कहानी को ‘चारा घाटोला’ कहा गया, जिसमें राजनेता, बड़े नौकरशाह और फर्जी कंपनियों के आपूर्तिकर्ताओं को आरोपी बनाया गया.