लखीमपुर खीरी मामला: योगी सरकार ने विपक्षियों की करी छुट्टी, 24 घंटे के अंदर स्थिति पर ऐसे पाया काबू

लखीमपुर खीरी हिंसा मामलें में रविवार को बवाल गहराता गया. बवाल इतना बढ़ा कि इस हिंसा के विकराल रूप लेने की पूरी आशंका रही लेकिन सूबे की योगी सरकार ने बात की गंभीरता को समझते हुए इस मामलें पर तुरंत संज्ञान लिया.


आपकों बता दें कि, किसानों के प्रदर्शन के बीच ही विपक्षी पार्टियां मौके का फायदा उठाकर सत्ताधारी सरकार पर निशाना साध रहीं हैं लेकिन उत्त र प्रदेश सरकार पहले से ही सतर्क हो गई. जानकारी के मुताबिक, जिले के तिकोनिया इलाके में भारी पुलिस फोर्स शाम से ही मौजूद थी.


सूत्रों के मुताबिक, किसान नेता भी लखीमपुर खीरी पहुंचें और विपक्ष के बड़े नाम भी. इसके अलावा मुख्यकमंत्री योगी आदित्याीथ ने लखनऊ से एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार को भेजा. वहीं, प्रशांत कुमार पर प्रदर्शनकारियों से बात कर बीच का रास्ताभ निकालने की जिम्मेंदारी रही.


दरअसल, एक अभियान के तहत विपक्षी नेताओं को लखीमपुर खीरी पहुंचने से रोका गया. योगी सरकार की ओर से ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि विपक्ष के वहां पहुंचने से तनाव और बढ़ सकता है. वहीं, किसान नेताओं से भी बात-चीत की गई और सरकार की ओर से तनातनी कम करने पर विचार-विमर्श किया गया. बताते चलें कि योगी सरकार ने इस पूरे मामलें पर एक्शन लेने की बात कही है.