समुद्र में चीनी पनडुब्बियों का निकलेगा दम, 54 टॉरपीडो की खरीद के लिए हुआ करार और खतरनाक हो जाएंगे P-8I प्लेन

भारतीय नौसेना दुनिया में बदलते परिदृश्य और वैश्विक चुनौतियों अपनी तैयारियां मजबूत करने में जुटी चुकी है। भारतीय नौसेना अब चीनी पनडुब्बियों को सबक सिखाने के लिए बड़ा हथियार खरीदने जा रही है।

मंत्रालय के मुताबिक भारतीय नौसेन के पनडुब्बी रोधी युद्धक विमान पी-8आई को और घातक बनाया जाएगा। इसके लिए 423 करोड़ रुपये की लागत से एमके 54 टॉरपीडो की खरीद की जाएगी। साथ ही चाफ और फ्लेयर्स जैसे एक्सपेंडेबल भी खरीदे जाएंगे। इसके लिए रक्षा मंत्रालय ने अमेरिका के साथ बड़ा करार किया है। मंत्रालय के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा, ‘रक्षा मंत्रालय ने भारतीय नौसेना के लिए 423 करोड़ रुपये की लागत पर एमके 54 टॉरपीडो और एक्सपेंडेबल खरीद के लिए विदेश सैन्य बिक्री के तहत अमेरिका की सरकार के साथ करार पर हस्ताक्षर किए हैं.’ उन्होंने कहा कि ये उपकरण पी-8आई विमान के साजो-सामान हैं।’

बता दें कि भारतीय नौसेना के बेड़े में कुल 11 पी-8आई विमान हैं। इन विमानों का उत्पादन अमेरिकी वैमानिकी कंपनी बोइंग द्वारा किया गया है। पी-8आई विमान को इसकी पनडुब्बी रोधी युद्धक क्षमताओं के साथ ही आधुनिक समुद्री टोही क्षमताओं के लिए भी जाना जाता है। इंडो-पैसिफिक एरिया में चीनी पनडुब्बियों से बढ़ रही चुनौती से निपटने के लिए इस सौदे को बेहद खास माना जा रहा है।