शाहरुख़ को ‘मुस्लिम सुपरस्टार’ कहने पर आपस में भिड़े दो सीनियर जर्नलिस्ट

क्रूज पार्टी मामले में फंसे अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को लेकर इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है। इसको लेकर काफी बहस हो रही है। लोग दो ब्लॉक में बंट गए हैं। जहां कुछ लोग आर्यन पर की जा रही कार्रवाई को सही मान रहे हैं तो वहीं कुछ लोग इसे धर्म से जोड़कर कह रहे हैं कि शाहरुख खान को इसलिए तोड़ा जा रहा है क्योंकि वह मुसलमान हैं.
इस बात को लेकर ट्विटर पर दो संवाददाताओं आरफा खानम शेरवानी और अनंत विजय के बीच तीखी बहस हुई. दरअसल आरफा ने अपने एक ट्वीट में लिखा था कि, ”आर्यन खान केस का उनके इलाज कराने से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन शाहरुख को निशाना बनाया जा रहा है. आर्यन को इस देश में ज़मानत के अधिकार से बाहर रखा जा रहा है. इसमें कोई शक नहीं कि शाहरुख़ खान हमारे समय का सबसे बड़ा मुस्लिम प्रकाश है, लेकिन चल रही ‘निष्कासन प्रक्रिया’ उनके लिए लाइन में खड़े होने का एक संचार है।”

इस पर अनंत विजय ने सवाल उठाते हुए कहा, “मुस्लिम रोशनी? आप जैसे लोग इस देश को हिंदुओं और मुसलमानों में बांटते हैं. इसके जवाब में आरफा खानम शेरवानी ने लिखा, “आप सही कह रहे हैं. मेरे अपने पाठ्यक्रमों ने देश को ‘हिंदू-मुसलमान’ में विभाजित कर दिया है। मैं देश की लोकप्रिय संस्थाओं को कमजोर कर रहा हूं और अधार्मिक-उदार संविधान को बदलकर ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाना चाहता हूं।”
इसके बाद अनंत विजय ने अरफा खानम की सोच को जिन्ना की सोच बताते हुए लिखा कि, ”आपने एक कलाकार को मुसलमान बनाया है, जिसे पूरा देश प्यार करता है. आपकी सोच जिन्ना की सोच है जिसके बीज मार्ले-मिंटो ने भारत में सुधार के नाम पर बोए थे. 1909. अभी यह शाहरुख की बात करने जा रहा है, इस पर रुकिए। मैं संविधान, लिबरल डेमोक्रेसी, हिंदू राष्ट्र पर बात कर सकता हूं। लेकिन अब मत भटको।”