खौफनाक बारिश: भागो भागो मैं चिल्लाता रहा, आँख खुली तो सब मर चुके थे, युवक ने छलकते आँखों से सुनाई आपबीती

देश के कई हिस्सों में इन दिनों बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी है। बारिश कई जगहों पर लगातार भारी तबाही मचा रही है। कई लोगो की बारिश सम्बंधित घटनाओं में जान चली गई है। हालांकि कई लोग मौत के खौफनाक मंजर तक पहुंचकर संघर्ष करते हुए जिंदा बच गए। इन्हीं में से एक उत्तराखंड के झूतिया गांव में मची तबाही से बचकर निकले सुरेश कुमार जिन्होंने अपनी आपबीती कहानी सुनाई।

हिंदुस्तान के मुताबिक सुरेश कुमार बताते हैं कि, “मुझे कुछ ज्यादा याद नहीं, सब सो रहे थे। सब कमरे में अंदर की ओर थे और मैं दरवाजे के पास सोया था। एक धमाके की आवाज हुई और सबने जोर से चिल्लाया। मुझे अनुभव हुआ कि पानी और पत्थर का सैलाब साथ बहाकर ले जा रहा है। मैं उस समय केवल भागो-भागो ही चिल्ला सका। उसके बाद क्या हुआ, मुझे याद नहीं। सुबह जब लोगों ने मुझे बाहर निकाला तो मुझे पता चला कि सब साथी मर चुके हैं, मैं ही बचा हूं। “

आपबीती बताते हुए सुरेश की आंखों से लगातार आंसू छलक रहे थे। उन्होंने बताया कि लगभग आठ घंटे बाद भी वह अस्पताल नहीं पहुंच पाए। गांव वालों ने किसी तरह मरहम पट्टी करके उनकी जान बचाई। सुरेश कुमार के साथ झूतिया गांव के लोग भी इस तबाही से गहरे सदमे में हैं।

इस बारिश में रामगढ़ ब्लॉक के झूतिया गांव ने भारी बारिश के बीच सबसे बड़ी त्रासदी झेली है। मंगलवार तड़के गांव के ऊपर से पानी के साथ मलबा और बड़ी मात्रा में पत्थर आए और एक घर को अपनी चपेट में ले लिया। घर के भीतर सो रहे नौ लोग मलबे में दब गए। इन लोगों में ज्यादातर बिहार से आए मजदूर थे।

सुरेश कुमार किसी प्रकार पानी के बहाव के साथ बहकर घर के बाहर आ गए और इस तरह से उनकी जान बच गई। लेकिन बुरी तरह जख्मी सुरेश गहरे सदमे में हैं। सामाजिक कार्यकर्ता देवेंद्र मेर ने बताया कि बारिश की वजह से गांव तक पहुंचना कठिन है। घायलों को अस्पताल तक नहीं पहुंचाया जा सका है। भारी बारिश की वजह से गांव में बिजली-पानी की व्यवस्था भी ठप है। गांव के दो से तीन घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुके हैं पर किसी की हिम्मत नहीं हो रही कि वहां जाकर घायलों को बाहर निकाल सके। कई मकान टूटने की कगार पर हैं। गांव सड़क से लगभग चार किलोमीटर दूर है और वहां तक पहुंचने के सारे रास्ते टूट चुके हैं। ऐसे में राहत और बचाव टीम को भी यहां आने में मुश्किलें आ रही हैं।