निहंगों का पुलिस को चेतवानी, लखबीर सिंह को किस बात की दी थी सज़ा

लखबीर सिंह हत्या मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। हिरासतव में लिए गए आरोपी निहंग सरदार नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोबिंदप्रीत सिंह को लेकर पुलिस अदालत पहुंची। कड़ी सुरक्षा के बीच तीनों को सिविल जज की कोर्ट में पेश किया गया। अदालत ने तीनों को 6 दिन की रिमांड पर भेज दिया। पुलिस की जीप में बैठने के दौरान निहंगों ने जयकारे लगाया। निहंगों ने दो टूक कहा है कि वे चार साथियों का आत्मसमर्पण करवा चुके हैं, अब और आत्मसमर्पण नहीं करवाएंगे। उन्होंने पुलिस को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर अब भी पुलिस ने गिरफ्तारी करने की कोशिश की तो वे उन साथियों को भी छुड़वा लेंगे, जो फिलहाल जेल में हैं।

जज के सामने तीनों आरोपियों ने गुनाह कबूलते हुए कहा कि लखबीर सिंह की हत्या उन्होंने ही की। नारायण सिंह ने कहा कि उन्होंने लखबीर सिंह का पैर काटा तो भगवंत सिंह और गोविंद सिंह ने लखबीर को लटकाया था। सरकारी वकील अनुज मलिक ने बताया कि पुलिस द्वारा तीनों निहंगों का 14 दिनों का रिमांड मांगा गया था। हालांकि अदालत ने सभी आरोपियों को 6 दिन की रिमांड पर भेजा है। इसी के साथ आरोपियों का हर रोज मेडिकल चेकअप भी होगा।

सिंघु बॉर्डर पर शुक्रवार लगभग साढ़े 3 बजे लखबीर सिंह की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। हत्या से पहले उसका एक हाथ और पैर भी काट दिया गया था। निहंगों ने लखबीर पर आरोप लगाते हुए कहा की उसने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी, जिसकी सजा उसे दी गई। इस मामले में अब तक 4 निहंग सरबजीत सिंह, नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोबिंदप्रीत पुलिस के सामने सरेंडर कर चुके हैं। पुलिस चारों निहंगों से पूछताछ कर यह जानना चाह रही है कि इस हत्या में उनके साथ और कौन-कौन शामिल थे। चारों से अलग-अलग पूछताछ में जो जानकारियां मिलेगी, उसे क्रॉस वेरिफाई करने के लिए बाद पुलिस चारों को आमने-सामने बैठाकर भी सवाल जवाब करेगी। पुलिस हत्या का सीन रीक्रिएट करने के लिए चारों निहंगों को सिंघु बॉर्डर पर भी ले जाएगी। शुक्रवार को एक बार फिर से चारों को एक साथ कोर्ट में पेश किया जाएगा।