गुमनाम साध्वी का वर्षों पुराना खत आया सामने,पढ़कर जानें राम रहीम के काले करतूतों की पूरी सच्चाई

19 साल पूराने मामले में पंचकूला की विशेष अदालत ने रंजीत सिंह हत्‍याकांड में डेरा सच्‍चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सहित पांच दा‍ेषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है,दरअसल 2017 में गुरमीत सिंह पर दो शिष्यों के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगा था जिसके कारण से राम रहीम को 20 साल की जेल हुई थी.इसके साथ ही पत्रकार की हत्या का आरोप में भी 2 साल पहले उम्रकैद की सजा सुनाई थी. इसी के चलते आज हम आपको बता रहे हैं एक ऐसे खत के बारे में जो पूर्व  प्रधानमंत्री अटल ब‍िहारी वाजपेयी को ल‍िखा गया था. इस खत के जरिए आप जान सकते हैं राम रहीम की पूरी सच्चाई …

दरअसल  इस गुमनाम चिट्ठी से पता चला था कि डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर रंजीत सिंह की 10 जुलाई 2002 को हत्या हुई थी, लेकिन रंजीत साध्वी के इस गुमनाम चिट्टी के आने से पहले ही अपनी बहन को लेकर कुरुक्षेत्र चले गए थे. सच्चा डेरा को रंजीत पर शक था कि ये खत उन्होंने अपनी बहन से लिखवाया है. 13 मई 2002 में ये चिट्टी तत्कालीन पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को देने के लिखी गई थी. पत्र में यौन शोषण से संबंधित कुछ इस तरीके से बातें लिखी गई थी.

सेवा में,

माननीय प्रधानमंत्री महोदय जी

श्री अटल बिहारी वाजपेयी, भारत सरकार

विषय : डेरे के महाराज द्वारा सैकड़ों लड़कियों से बलात्कार की जांच करें।

मैं पंजाब की रहे वाली हूं और में पांच साल से सच्चा डेरा सौदा सिरसा हरियाणा (धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा) में साधु लड़की के रूप में सेवा कर रही हूं, मेरे यहा लड़कियां 18 -18 घटें सेवा करती रहती है. हमारा यहां डेरे के महाराज गुरमीत सिंह द्वारा योनिक शोषण (बलात्कार) किया जा रहा है, मैं बीए पास हूं. मेरे परिवार के  सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साधु बनी थी. साधु बनने के बाद एक दिन महाराज की परम शिष्य गुरुमीत ने मुझे 10 बजे मुझे पिता जी यानि की मुझे (महाराज के रहने का स्थान) में बुलाया है

. मैं यह सुनकर बहुत खुश हुई क्योंकि में पहली बार महाराज के पास जा रही थी. यह सोचकर की मुझे आज परमात्मा ने बुलाया है. जैसे ही मैं गुफा के अंदर गई तो देखा कि महाराज गुरमीत सिंह बेड पर बैठे हैं और हाथ में रिमोट है सामनें टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है. इस साथ ही बेड के सिराहने पर रिवॉल्वर रखी हुई है. मैनें ये सब देखा तो मेरे पैरों से जमीन खिसक गई, ये सब देख मुझे चक्कर आने लगे.ये सब क्या हो रहा है. मैनें कभी सपने में भी महाराज के बारें में ऐसा नहीं सोचा था कि महारात ऐेसे होंगे. मुझे देखकर महाराज ने टीवी बंद किया और मुझे अपने पास बिठाकर पानी पिलाया और फिर आगे कहा कि मैंने तुम्हें खास प्यारी समझकर बुलाया है, फिर महाराज मुझे बांहों में लेने लगे और कहा कि हम तुम्हें दिल से चाहते हैं हम तुम्हें प्यार करना चाहते हैं क्योंकि जब तुम साधु बनी थी तब तुमने हमने अपना सबकुछ तन-मन-दन अर्पण करने को कहा था तो अब ये आपका तन -मन हमारा है.

मैनें इस बात का विरोध किया तो राम रहीम ने कहा कि हम ही खुदा है. तो फिर मैनें पूछा कि क्या ये खुदा का काम होता है. तो वो बोले- ये कोई नहीं बात नहीं है श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं जिनसे वह हर रोज प्रेम लीला करते थे। फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं. 

हम चाहे तो तुम्हारें रिवॉल्वर से प्राण पखेरु उडाकर दाह संस्कार कर सकते हैं,ये तुम अच्छे से जानती हो कि तुम्हारे घरवाले हम पर कितना विश्वास करते है वे हमारे गुलाम है, हमारी कोई बात नहीं टाल सकते है.

हरियाणा व पंजाब के मुख्यमंत्री, पंजाब के केंद्रीय मंत्री हमारे चरण छूते हैं.सरकार में हमारी बहुत चलती है. राजनेता हमसे पैसा लेते हैं कोई भी हमारे खिलाफ नहीं जा सकता है. हम तुम्हारे परिवार वालों को नौकरी से निकलवा देंगे .सभी सदस्यों को गुडों से मरवा देंगे और कोई सबूत भी नहीं रहेगा.ये बाद तुम अच्छे से जानती हो कि हमने डेरे प्रंबधक  फकीर चंद को खत्म करवा दिया ता जिसका आजतक कोई सबूत नहीं मिला है. पैसे के बल पर हम न्याय खरीद सकते हैं.

इसी तरह से मेरे मुंह पिछले 20-30 मास से काला किया जा रहा है, मुझे फिर पता चला था कि इसी तरह से डेरे की बाकी लड़कियां का मुंह भी काला किया जा रहा है. डेरा में जो 30 से 40 वर्ष की उम्र की लड़कियां हैं वो शादी की उम्र से पार जा चुकी हैं जिस कारण से उन्होंने अपनी परिस्थितियों से समझौता कर लिया है लेकिन जो लड़कियां बीए, एमए, बीएड, एमफिल पास हैं वो अपने गरवालों के कारण यहां नर्क की जिंदगी जी रही हैं.

डेरा में यहां सफेद कपड़े पहनना सिर पर चुन्नी रखा और किसी भी आदमी की तरफ आंख उठाकर ना देखना साथ ही हर आदमी से 5 से 10 फीट की दूरी बनाकर रखने का आदेश दिया गया था. हम लड़कियों की जिंदगी डेरा में वेश्याओं जैसी हो गई हैं.

इसके बाद मैनें ये सब बातें अपने घरवालों को बताई तो वो मुझपर गुस्सा हुए और कहा  तेरे मन में बुरे विचार आने लग गए हैं। सतगुरु का सिमरण किया कर. मैं मजबूर थी. हमे हर बात महाराज की माननी पड़ती थी यहां दो लड़कियां आपस में बात नहीं कर सकती थी ना ही घरवालों से फोन पर बात कर सकते थे, जो भी डेरे की सच्चाई के बारे में बात करता तो उसका मुंह बंद कर दिया जाता था.

एक कुरक्षेत्र जिले की एक साधु लड़की डेरा छोड़कर ही गर आ गई और उसने अपने गर वालों को सारा सच बता दिया जिसके बाद उसके भाई ने भी डेरा छोड़ दिया . इसके अलावा संगरुलर जिले की एक लड़की ने भी डेरे की इन करतूतों के बारे में अपने पड़ोसियों को बताया था जिसके बाद डेरे के गुड्डे उसके घर आ गे थे और बंदूक दिखाकर उसे मारने की धमकी दी थी. इस तरह से ऐसी कई लड़कियां हैं जो कि राम रहीम की डेरे की गुडार्दी के कारण कुछ बोल नहीं पाती है.

अत:  आपसे मेरे अनुरोध है कि यदि मैं अपना इसमें नाम पता लिखूंगी तो मुझे भी मेरे परिवार सहित जान से मार दिया जाएगा. मैं चुप नहीं रह सकती हूं. मैं जनता के सामने सारी सच्चाई लाना चाहती हूूं. अगर आप प्रेस के माध्यम से किसी भी एजेंसी से जांच करवाएं तो डेरे में मौजूद 40-45 लड़कियां राम रहीम के जाल में फंसी हुी हैं.यदि हम सब लड़कियों का डॉक्टरी जांच कराई जाे तो आपको व हमारे घर वालों को पता चल जाएगा कि हम कुमारी देवी साधु हैं या नहीं.

 अगर नहीं तो किसी के द्वारा बर्बाद हुई हैं. ये बता देंगे कि महाराज गुरमीत राम रहीम सिंह जी, संत डेरा सच्चा सौदा के द्वारा तबाह की गई है.

– प्रार्थी

एक निर्दोष जलालत का जीवन जीने को मजबूर (डेरा सच्चा सौदा सिरसा)