IT विभाग का कांग्रेस के लिए काम करने वाली कंपनी पर रेड, मिली बेहिसाब संपत्ति

IT विभाग ने कांग्रेस पार्टी से जुड़ी डिजिटल मार्केटिंग का काम करने वाले एक ग्रुप और कैंपेनिंग मैनेजमेंट से जुड़ें फर्मों पर छापा मारा है। रेड के दौरान आयकर विभाग को करोड़ों रूपये की टैक्स चोरी का पता लगा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विभाग ने 12 अक्टूबर को रेड मार यह कार्रवाई कर्नाटक सहित कई राज्यों में की।

रविवार को एक प्रेस बयान जारी हुआ जिसमे IT विभाग ने बताया कि बेंगलुरु, सूरत, चंडीगढ़ और मोहाली में 7 जगहों पर छापेमारी की गई। एक सूत्र द्वारा अखबार को कहा गया की बेंगलुरू में स्थित कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डीके शिवकुमार द्वारा किराए पर ली गई इमेज कंसल्टेंसी फर्म डिजाइनबॉक्स्ड क्रिएटिव प्राइवेट लिमिटेड के कार्यालय में छापेमारी की गई। एजेंसी ने दावा करते हुए कहा की अपराध में लिप्तता साबित करने वाले साक्ष्य मिले हैं जो दर्शाते हैं कि ग्रुप ने एक एंट्री ऑपरेटर की मदद से फर्जी व्यावसायिक एंट्री करवाईं। अखबार के मुताबिक, राज्यों में डिजिटल मार्केटिंग और कैंपेनिंग मैनेजमेंट फर्मों पर आयकर विभाग के हालिया छापे में 7 करोड़ रुपये के बेहिसाब निवेश और लगभग 70 करोड़ रुपये के फर्जी खर्च का पता चला है।

विभाग के बयान में बताया गया कि पहला ग्रुप डिजिटल मार्केटिंग और कैंपेनिंग मैनेजमेंट से जुड़ा है इसी के साथ बेंगलुरु, सूरत, चंडीगढ़ और मोहाली स्थित परिसरों समेत कुल सात ठिकानों पर छापे मारे गए। इसको लेकर बताया गया की एंट्री ऑपरेटर ने हवाला ऑपरेटरों के जरिए ग्रुप को नगदी और बिना लेखाजोखा वाली आय ट्रांसफर करने की बात स्वीकार की है। विभाग ने अपने जारी बयान में यह भी कहा कि छापेमारी के दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए हैं। विभाग को ऐसे सबूत मिले हैं जो बताते हैं कि यह समूह खर्चे और उप ठेके के फर्जी बिल के काम में लिप्त था। आरंभिक अनुमान के मुताबिक इस तरह करीब 70 करोड़ रूपये के फर्जी खर्चे दिखाए गए।

CBDC ने कहा कि सभी फर्मों पर छापेमारी के दौरान बिना हिसाब-किताब के करीब सात करोड़ रूपये का संपत्ति में निवेश का पता चला और बिना लेखाजोखा वाले 1.95 करोड़ नकद और 65 लाख रूपये के गहने जब्त किए गए।