आसाराम के बेटे नारायण साईं को इस मामलें में सुप्रीम कोर्ट से मिला झटका, SC ने कहा…

बलात्कार के मामलें में उम्र कैद की सजा काट रहें आसाराम के बेटे नारायण साईं को दो हफ्तों का ‘फरलो’ देने के गुजरात हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया है. बता दें कि गुजरात सरकार ने भी इस पर सहमति जताई है.

सूत्रों के मुताबिक, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने गुजरात सरकार की याचिका पर हाई कोर्ट द्वारा दी गई नारायण साईं के फरलो को रद्द कर दिया है.

आपको बता दें कि गुजरात हाई कोर्ट की सिंगल पीठ ने नारायण साईं को फरलो की मंजूरी दी थी. वहीं, गुजरात सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट से कहा कि नारायण साईं जेल के अंदर आपराधिक गतिविधियों में शामिल रहा है इसलिए सांई को फरलो नहीं देनी चाहिए.

जानकारी के मुताबिक, साईं के फरलो मांगने का आधार ये है कि उसे पूर्व में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए अपने पिता आसाराम की देखरेख करनी है. फिलहाल, उन्हें फरलो नहीं दी जानी है.

बताते चलें कि पिता आसाराम और बेटे नारायण साईं को बलात्कार के अलग-अलग मामलों में दोषी ठहराया गया है और वो उम्रकैद की सजा काट रहें हैं. बताया जा रहा है कि वो जेल के अंदर भी आपराधिक मामलों में दोषी पाए गए है. दरअसल, गुजरात के सूरत की एक कोर्ट ने नारायण साईं को साल 2019 में भारतीय दंड संहिता की धारा 376, 377, 323 रेप, अपराध, हमला आदि के तहत दोषी ठहराया है.