अब ICC में भी बजेगा ‘दादा’ का डंका, पहना दिया गया ताज

बीसीसीआई (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को आईसीसी (ICC) ने पुरुष क्रिकेट समिति (Mens Cricket Committee) का चेयरमैन बनाया है। गांगुली की नियुक्ति 3 सालों के लिए हुई है। इससे पूर्व यह पद भारत के ही पूर्व क्रिकेटर अनिल कुंबले (Anil Kumble) के पास था। अनिल कंबले 9 सालों तक इस पद पर रहे। उन्होंने 3-3 सालों के तीन कार्यकाल पूरे किए। आईसीसी ने बुधवार को इस बारे में घोषणा की। 

बीसीसीआई के साथ आईसीसी भी करेगा करों का भुगतान: 

आईसीसी की ओर से एक अहम ऐलान करों को लेकर भी किया गया है। आईसीसी इस बात पर सहमत हो गया है कि वह बीसीसीआई की कर जिम्मेदारियों को अपने कंधों पर लेगा। तमाम प्रयासों के बाद भी बीसीसीआई को भारत सरकार से करों में कोई छूट नहीं मिल रही है। अब आईसीसी ने इस बाबत बीच का रास्ता निकालते हुए करों का भगतान करने का निर्णय लिया है। बीसीसीआई आगामी वर्षों में कई बड़े टूर्नामेंट्स की मेजबानी करेगा जिनमें 2026 में टी20 वर्ल्ड कप (सह-मेजबान श्रीलंका), 2029 में चैंपियंस ट्रॉफी और 2031 में वनडे वर्ल्ड कप शामिल हैं। भारत सरकार को इन सभी टूर्नामेंट्स के करों का भुगतान आईसीसी के द्वारा किया जाएगा। 

आईसीसी अध्यक्ष ने क्या कहा…

आईसीसी की ओर से जारी बयान में अध्यक्ष ग्रेग बार्कले की ओर से लिखा गया, “मुझे आईसीसी पुरुष क्रिकेट समिति के चेयरमैन पद पर सौरव गांगुली का स्वागत कर प्रसन्नता हो रही है। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के तौर पर और फिर प्रशासक के रूप में उनके अनुभव से हमें भविष्य में क्रिकेट फैसले लेने में मदद मिलेगी।” 

इसलिए याद रखे जाएंगे कुंबले: 

आईसीसी में अनिल कुंबले के काम को केवल इसलिए याद नहीं किया जाएगा कि उन्होंने सफलतापूर्वक 3 कार्यकालू पूरे किए। उन्होंने बीते 9 सालों में कई अहम सुधार किए। उन्होंने डीआरएस (DRS) का नियमित और निरंतर इस्तेमाल से लेकर संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन से निपटने के लिए मजबूत प्रक्रिया अपनाकर खेल के स्तर को ऊंचा किया। अपने कार्यकाल के दौरान कुंबले किसी विवाद में नहीं फंसे।