इस फिल्म में प्रीति जिंटा ने निभाया था सरोगेट मां का किरदार, जानें क्या होती है Surrogacy

बॉलीवुड की एक्ट्रेस प्रीति जिंटा (Preity Zinta) और उनके पति जीन गुडइनफ (Gene Goodenough) दो जुड़वां बच्चों (Preity Zinta twins) के माता-पिता बनें हैं। कहा जा रहा है कि Surrogacy से प्रीति जिंटा के घर में खुशियां आई हैं। प्रिती जिंटा ने फिल्म 'चोरी-चोरी चुपके-चुपके' में एक सेरोगेट मदर का किरदार निभाया था। यहां हम आपको सेरोगेसी के बारे में बताने जा रहे हैं। 

सरोगेसी क्या है ( What is Surrogacy) 

दरअसल, सरोगेसी का मतलब है कि बच्चा पैदा करने के लिए किसी दूसरी महिला की कोख को किराए पर लेना। सरोगेसी एक ऐसी तकनीक है, जिसके माध्यम से निसंतान दंपति बच्चे पैदा कर सकते हैं। सेरोगेट मां बच्चे के जन्म देने के बाद उसके माता-पिता को बच्चा सौंप देती हैं। इसका पूरा एक एग्रीमेंट तैयार किया जाता है। यह तकनीक आवीएफ और आईयूआई से ज्यादा महंगी होती है।  

कितने तरह की होती है (Surrogacy Type)

विशेषज्ञों की मानें तो सरोगेसी दो तरह की होती है। जिनमें से एक को ट्रेडिशनल सरोगेसी और दूसरी को जेस्टेशनल सरोगेसी कहा जाता है। ट्रेडिशनल सरोगेसी में डोनर यानी जो व्यक्ति पिता बनना चाहता है, उसके स्पर्म को सरोगेसी अपनाने वाली महिला के एग्स से मैच किया जाता है। इसमें सरोगेट मदर की ही बच्चे की बॉयोलॉजिकल मदर कहा जाता है। वहीं  जेस्टेशनल सरोगेसी में  सेरोगेट का एग नहीं लिया जाता है। बल्कि होने वाले बच्चे के माता-पिता का स्पर्म और एग को ही सरोगेट मदर के यूट्रस में प्रत्यारोपित किया जाता है। जिसमें बच्चे की मां ही उसकी बॉयोलॉजिकल मदर होती है।