भावुक करने वाली तस्वीरें: आंखों में आंसू, हाथ में तिरंगा, पिता को बेटियों का आखरी सलाम

देश के प्रथम चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत, ब्रिगेडियर एल एस लिद्दर समेत 10 अन्य रक्षा कर्मियों के पार्थिव शरीर गुरुवार को दिल्ली के पालम एयरबेस पहुंचा। एक सैन्य विमान से उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली लाया गया। पार्थिव शरीरों के एयरबेस पहुंचने के पश्चात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की। शहीदों के परिवार के सदस्य और रिश्तेदार पहले से ही एयरबेस में मौजूद थे, उन लोगों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।


पीएम मोदी और अन्य नेताओं और सैन्य अधिकारियों की तरफ से श्रद्धांजलि देने के पश्चात माहौल काफी गमगीन हो गया जब शहीदों के परिवार के सदस्य और बेटियों ने श्रद्धांजलि देनी प्रारंभ की। हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद हुए ब्रिगेडियर एलएस लिद्दर की बेटी अपने पिता के कॉफिन के पास पहुंचीं और कॉफिन के सामने पहुंचने के बाद कुछ देर खड़ी रहीं और फिर झुककर उनके ताबूत को चूम लिया।

पालम हवाई अड्डे पर भावुक कर देने वाले दृश्य नजर आए।


जनरल रावत और उनकी पत्नी के पार्थिव शरीरों को शुक्रवार सुबह 11 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक आम जनता के अंतिम दर्शन के लिए उनके 3 कामराज मार्ग स्थित आवास पर रखा जाएगा। दोपहर 12:30 बजे से दोपहर 1:30 बजे के बीच का समय सैन्य कर्मियों के लिए बिपिन रावत और उनकी पत्नी को श्रद्धांजलि देने के लिए होगा।

जनरल रावत की अंतिम यात्रा उनके आवास से बरार स्क्वायर श्मशान घाट तक दोपहर करीब 2 बजे शुरू होगी। अंतिम संस्कार शाम 4 बजे निर्धारित है। ब्रिगेडियर लिद्दर का अंतिम संस्कार सुबह नौ बजे किया जाएगा।