काम की बात: भारतीय रेलवे में सफर करने से पहले जान लें लगेज संबंधित ये नियम, वरना जुर्माने के साथ हो सकती है जेल

अपने गांव, शहर या कहीं घूमने जाने के लिए अक्सर लोग रेलवे (Indian Railways) से सफर करना पसंद करते हैं। देश में सबसे ज्यादा लोग रेल यात्रा (Train) करते हैं, ये ही कारण है कि भारतीय रेलवे, दुनिया के दूसरे सबसे बड़े रेल नेटवर्कों में से एक है। अगर आप भी ट्रेन में सफर (Traveling in Train) करते हैं या इससे यात्रा करने जा रहे हैं तो आपके लिए भारतीय रेलवे के कुछ खास नियमों को जरूर जान लेना चाहिए।

भारतीय रेलवे का नियम (Indian Railways Rules) के मुताबिक ट्रेन में केवल एक तय सीमा तक ही सामान लेकर जाया जा सकता है। इसके अलावा कुछ ऐसे भी सामान हैं जिन्हें ट्रेन में ले जाना बैन है। जिसे ले जाने पर जुर्माने के साथ जेल भी हो सकती है, आइए आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं...

जिस तरह से हवाई यात्रा के लिए सामान की सीमा तय होती है, ठीक वैसे ही ट्रेन यात्रा के लिए भी नियम लागू है। अगर कोई यात्री 50KG तक का सामान लेकर जाता है तो उस पर कोई जुर्मा नहीं लगेगा। हालांकि, इससे ज्यादा वजन में सामान ले जाने पर उसका किराया अलग से देना पड़ता है। इसी तरह से अलग-अलग कोच के मुताबिक भी सामानों के वजन और जुर्माने तय हैं।

  • AC कोच में सफर करने के लिए अधिकतम 70KG सामान का वजन हो सकता है। इससे ज्यादा होने पर एक्स्ट्रा चार्ज लगता है।
  • स्लीपर कोच में सफर करने के लिए सामान का वजन अधिकतम 40KG तक हो सकता है। इससे अधिक ले जाने पर एक्स्ट्रा चार्ज लगेगा।

देना पड़ सकता है इतना जुर्माना

अगर रेलवे यात्रा के लिए आप तय सीमा से अधिक सामान लेकर जाते हैं तो अलग-अलग शुल्क लगता है। इसमें सबसे कम शुल्क 30 रुपये तक का भरना पड़ता है, जबकि अधिकतम 100 से ज्यादा भी हो सकता है।

नियम में रेलवे की ये छूट

रेलवे में ले जाने वाले सामान नियमों में छूट भी दी गई है। इसके अनुसार कोई मरीज अगर यात्रा कर रहा है तो वो अपने साथ अपने लगेज के अलावा ऑक्सीजन सिलेंडर और स्टैंड भी लेकर जा सकते हैं।

रेलवे में इन सामानों को ले जाना मना

यात्रा के दौरान रेलवे में ज्वलनशील या विस्फोटक पदार्थ ले जाना मना है। अगर कोई इस नियम का पालन नहीं करता है तो उसे जुर्माना भरने के साथ जेल भी जाना पड़ सकता है।