India Railway: अब अनारक्षित टिकट होने पर भी मिलेगी सीट, रेलवे ने जोड़े 31 ट्रेनों में नए डिब्बे ...

india railway second class new coaches

india railway second class new coaches

भारतीय रेलवे (Indian Railways) द्वारा अपने ग्राहकों के लिए तरह-तरह की पहल की जाती है। इसमें रेलवे की कोशिश रहती है कि उनके किसी भी यात्री को सफर करने में कोई परेशानी न हो। रेलवे (Railways) में आर्थिक तौर पर मजबूत या कमजोर (financially strong or weak) दोनों तरह के लोग यात्रा कर सकते हैं। हालांकि, ट्रेन में अलग-अलग डिब्बे मौजूद हैं जिनकी टिकट की कीमत (Railways Tickets) उनमें मौजूद सुविधा के अनुसार होती हैं। ऐसे में व्यक्ति अपने बजट के अनुसार टिकट बुक करा सकता है। 

टिकट बुकिंग के दौरान अक्सर टिकट रिजर्वेशन (Ticket Reservation) को लेकर समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में यात्रियों को यात्रा करने में दिक्कत हो सकती है। इस तरह की समस्या को दूर करने के लिए भारतीय रेलवे 31 ट्रेनों में नए डिब्बे (New Coaches in 31 trains) जुड़ने की तैयारी में है।

आपको बता दें कि कोरोना काल से पहले वाली सामान्य स्थिति की दिशा में रेलवे द्वारा ये बड़ा कदम उठाया है। भारतीय रेलवे 10 दिसंबर (December) से 31 ट्रेनों में सेकंड क्लास कोच की शुरुआत करेगी। इसमें अनारक्षित सेकंड क्लास (unreserved second class) और दिव्यांग अनुकूल सेकंड क्लास (Divyang Friendly Second Class) कैटेगरी के यात्री बैठ सकेंगे। रेलवे ने अनारक्षित और दिव्यांगों के लिए सेंकड क्लास के डिब्बे जोड़ने का ऐलान किया है। ऐसे में टिकट रिजर्वड न (unreserved Ticket) होने पर भी यात्री इन सेंकड क्लास कोच में बैठकर सफर कर सकते हैं।

इन ट्रेनों में अनारक्षित डिब्बे की शुरुआत

  • दिल्ली जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • फाजिल्का जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • लखनऊ जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • पठानकोट जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • दौलतपुर चौक जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • अमृतसर जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • कटरा जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • अयोध्या जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • मोगा जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • जालंधर जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • देहरादून जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • कैंट जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं।
  • कुछ एक्सप्रेस ट्रेनें शामिल हैं।
  • कुछ सुपरफास्ट ट्रेनें शामिल हैं।

बता दें कि कोविड19 को लेकर स्पेशल ट्रेनें चलाई गई थीं। हालांकि, अब इन्हें सामान्य ट्रेन के जैसे चलाने का निर्णय लिया गया है। बता दें कि स्पेशल ट्रेनों का किराया, नॉर्मल ट्रेनों के किराए से 30 प्रतिशत तक ज्यादा है। वहीं, अब मेल, एक्सप्रेस और हॉलिडे स्पेशल ट्रेनें को रेगुलर ट्रेनों में शामिल करने के साथ नॉर्मल टिकट के किराए की सूची में शामिल कर दिया गया है।