PM Kisan Samman Nidhi Yojana: किसानों के लिए खुशखबरी, अगले हफ्ते खाते में आएंगे इतने हजार रुपये!

PM Kisan Samman Nidhi Yojana

PM Kisan Samman Nidhi Yojana

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (Prime Minister Kisan Samman Nidhi) के तहत अगले हफ्ते करोड़ों किसानों के बैंक अकाउंट (Farmers Bank Account) में 10वीं किस्त का पैसा ट्रांसफर होगा। राज्य सरकार की ओर से पहले ट्रांसफर रिक्वेस्ट पर साइन किया जाता है, जिसके बाद पीएम किसान योजना (PM Kisan Samman Nidhi) का पैसा बैंक में आता है। सरकार द्वारा अपनी तैयारियां पूरी कर दी गई है, ऐसे में जल्द आपके खाते में पैसे आ सकते हैं, आइए आपको इसका स्टेटस चेक करने का तरीका बताते हैं...

कई राज्य सरकार है तैयार

आपको जानकारी के लिए बता दें कि किसान योजना मनी ट्रांसफर (Money Transfer) की तैयारियां कई राज्य सरकार द्वारा की जा चुकी है। ऐसे में राज्य सरकार ने ट्रांसफर रिक्वेस्ट पर साइन कर दिया है, इसके बाद की प्रक्रिया हो रही है। उम्मीद है कि 15 दिसंबर को किसानों के खाते में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत पैसे ट्रांसफर हो जाएंगे। इस योजना के तहत खाते में 2000 रुपये ट्रांसफर किए जाएंगे।

इस तरह जानें खाते में आएंगे कितने पैसे

अगर आपको अपनी 9वीं किस्त नहीं मिली है तो आपके बैंक में कुल 4 हजार रुपये आएंगे। इसे चेक करने के लिए आप किसान आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं। यहां आपको अपनी किस्त से जुड़ी जानकारी मिल जाएगी। साथ ही ये भी पता चल सकेगा कि आपको अब तक कितनी किस्त मिल गई है। इस बार की किस्त आपके पास आएगी या नहीं इसका पता भी आपको यही से चले सकेगा। अगर आपके किस्त के स्टेट में आरएफटी साइंड लिखा नजर आए तो मतलब आपके पास किस्त की रकम आने वाली है।

किसानों की आर्थिक मदद के लिए ये योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत किसानों की मदद के लिए की गई है। इस योजना के तहत सालाना 6 हजार रुपये किसानों के खाते में डाले जाते हैं। जिसे तीन किस्तों में 2-2 हजार रुपये में भेजा जाता है। अगर किसी के पास पिछली किस्त नहीं आई होती है तो उसे अगली किस्त के साथ खाता में भेजा जा सकता है। बता दें कि अब तक 11.37 करोड़ किसानों को इस योजना का लाभ मिला है।

किसे होता है इस योजना का लाभ

पीएम किसान योजना का लाभ उन्हें होता है जिनके पास दो हेक्टेयर खेती करने के लिए जमीन होती है। इसमें 18 से 40 उम्र के किसानों को लाभ हो सकता है। हालांकि, जिन किसानों के पास खेती के लिए 2 हेक्टेयर तक भी जमीन नहीं होती है उन्हें इसका फायदा नहीं होता है।