One Nation One KYC: सिंगल विंडो सिस्टम जल्द हो सकता है शुरू, जानिए आपको कैसे होगा इसका फायदा

सरकार ने ज्यादातर ऑनलाइन सेवाओं के लिए "नो योर कस्टमर" यानी केवाईसी (KYC) को जरूरी कर दिया है। ये एक ऐसी प्रक्रिया है जो व्यक्ति के बैंक (Bank Details), संस्थान, पहचान (ID Proof) और पते (Address) की पुष्टी करती है। वहीं, अब "वन नेशन वन केवाईसी" के तहत बैंक (Bank) खुलवाने से लेकर म्युचुअल फंड (Mutual Fund), ऑनलाइन पेमेंट (Online Payment) आदि कामों के लिए केवाईसी की प्रक्रिया से गुजरना पड़ेगा। इसका मतलब ये हुआ कि आपके लिए विभन्न सर्विस को यूज करने के लिए केवाईसी जरूरी हो गया है। जिसके बाद ही आप बैंक या अन्य तरह के पेमेंट वर्क कर सकते हैं। ऐसा न करने पर आपका काम नहीं हो पाएगा।

अब शायद आप ये सोच रहे होंगे कि KYC को इतना जरूरी क्यों कर दिया गया है और अगर ये इतना जरूरी है तो इसे सिंगल विंडो पोर्टल (Single Window Portal) या फिर सिंगल विंडो सिस्टम (Single KYC System) में लाने पर विचार क्यों नहीं किया जा रहा है? आपको बता दें कि इसे लेकर सरकार की ओर से इशारा दिया गया है। केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के अनुसार केवाईसी सिस्टम को जल्द सिंगल विंडो पोर्टल पर लाया जा सकता है। ऐसे में केवाईसी के लिए आपको भटकना नहीं पड़ेगा।

"कॉमन केवाईसी सिस्टम स्थापित किया जाएगा" -पीयूष गोयल

पीयूष गोयल ने केवाईसी सिस्टम के लिए कहा कि KYC के लिए एक ऐसा प्लेटफॉर्म लाना चाहिए जिसे विभन्न संस्थाएं यूज कर सकें। इस तरह के केवाईसी सिस्टम के आने पर लोगों को इसके लिए भटकना नहीं पड़ेगा, साथ ही समय की भी बचत हो सकेगी। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के एक कार्यक्रम के दौरान भी पीयूष गोयल ने केवाईसी सिस्टम को लेकर जोकर दिया। उन्होंने कहा कि मयूचुअल फंड, स्टॉक ब्रोकर्स और डिपॉजिटरी की मजबूती के लिए कॉमन केवाईसी सिस्टम स्थापित किया जाएगा, इसके लिए सिंगल विंडो पोर्टल पर जोर दिया जा रहा है।

क्या है कॉमन केवाईसी सिस्टम?

कॉमन केवाईसी के तरह का सिंगल विंडो पोर्टल होगा, जहां केवाईसी प्रक्रिया आसानी से की जा सकेगी। कॉमन केवाईसी से बैंकिंग, ट्रेडिंग और इक्विटी से संबंधित सभी तरह के वित्तीगत संस्थानों को जोड़ने के अलावा अधिक से अधिक नए लोगों को अपने साथ जोड़ने में मदद मिलेगी। कॉमन केवाईसी सिस्टम से वित्तीय कंपनियों को अधिक ग्राहक मिल सकते हैं। इस सिस्टम से बैंक खाते खोलने से लेकर क्रेडिट कार्ड पाना, ट्रेडिंग शुरू करना आदि काम आसान हो जाएंगे। ज्यादा से ज्यादा निवेश और आम जनता बैंकिंग क्षेत्र और स्टॉक एक्सचेंज से जुड़ पाएंगे।

क्यों जरूरी है केवाईसी?

व्यक्ति के पहचान और पते की वेरिफिकेशन के लिए KYC जरूरी है। बैंक अकाउंट, शेयर बाजार, डिपॉजिटरीज, मोबाइल कनेक्शन, सिम कनेक्शन, म्यूचुअल फंड, पेमेंट वॉलेट, पेमेंट प्लटफॉर्म, बीमा आदि ऑनलाइन सेवाओं में केवाईसी जरूरी है।

फ्रॉड रोकने में मिलेगी मदद

केवाईसी के नाम पर कई फ्रॉड के मामले देखने को मिलते रहते हैं। इसमें अधिकतर केस ऐसे सामने आए कि जिनमें पहले कस्टमर को शातिर ठग करने वाले मैसेज भेजते हैं, इसके बाद फोन कर केवाईसी का कहकर निजी जानकारी हासिल कर लेते हैं। ऐसे में उनके लिए बैंक का खाता खाली करना आसान हो जाता है और वो सारे पैसे दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर देते हैं। वहीं, अब सिंगल केवाईसी के आने पर फ्रॉड को रोका जा सकेगा।